हिसार, जेएनएन। विश्व में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण में सब जगह लॉकडाउन है। हिसार के न्योली कलां निवासी एवं मर्चेंट नेवी में द्वितीय ऑफिसर विनोद ढांडा यूके के लीवरपुल शहर में फंस गए हैं। वह दिसंबर 2019 में चीफ इंजीनियर पद पर प्रमोशन के लिए परीक्षा देने के लिए गए थे। उनका 13 अप्रैल को विजा भी खत्म हो रहा है।

अब वहां विनोद परेशान है। लॉकडाउन होने के कारण वहां की सरकार व इंडियन एंबेसी से भी उनका संपर्क नहीं हो पा रहा है। विनोद ने अपने सीनियर चीफ इंजीनियर सेक्टर-15 निवासी वेद प्रकाश सोनी से मदद मांगी है। वेद प्रकाश ने अब डीसी हिसार सहित प्रधानमंत्री कार्यालय, विदेश मंत्रालय को ट्वीट कर मदद की गुहार लगाई है।

मर्चेंट नेवी में विनोद की ज्वाइनिंग होने के बाद वह चीफ इंजीनियर बनने के लिए परीक्षा देनी होती है। वह दिसंबर में परीक्षा देने गए थे। अब उनका एक पेपर रह गया था लेकिन कोरोना वायर का संक्रमण फैलने के बाद यूके को पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया। लॉकडाउन होने से विनोद अब वहां से कहीं नहीं निकल पा रहे है। उनकी तरफ से यूके सरकार और इंडियन एंबेसी से भी मदद मांगी गई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। विनोद ने इस दौरान अपने सीनियर वेद प्रकाश से संपर्क किया और उनसे मदद करवाने की मांग उठाई। वेद प्रकाश ने उनको हौसला देते हुए भारत सरकार से मदद मांगी है।

विनोद भी विजा खत्म होने से परेशान

वेद प्रकाश ने बताया कि विनोद उनका बहुत अच्छा दोस्त है। अब उनका विजा 13 अप्रैल को खत्म हो रहा है तो वह ज्यादा परेशान है। उसने 28 मार्च को वापस आना था लेकिन लॉकडाउन होने से नहीं आ पाया। वेद प्रकाश ने बताया कि लीवरपुल शहर में और भी भारतीय लोग है। वेद प्रकाश ने बताया कि न्योली कलां गांव के अलावा उनके परिवार के लोग सेक्टर 14 में रहते है। वह भी बहुत ज्यादा परेशान है। वह उनको फोन कर रहे है। अब परिवार के लोगों ने भी सरकार से मदद करने की गुहार लगाई है।

हिसार की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस