जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़। शहर की सब्जी मंडी में अवैध रूप से सब्जी व फल की दुकानों को लेकर मार्केट कमेटी की ओर से शनिवार को कार्रवाई की गई। इस पर यहां हंगामा हो गया। रेहड़ी फल विक्रेताओं ने नारेबाजी की और मार्केट कमेटी पर उनको बिना वजह खदेड़ने का आरोप लगाया। इधर, मार्केट कमेटी का तर्क है कि यहां के दुकानदारों ने सीएम विंडो पर शिकायत दी थी। उसी के आधार पर यह कार्रवाई की गई है।

मार्केट कमेटी की कार्रवाई

दरअसल, मार्केट कमेटी का दस्ता शनिवार की सुबह जब यहां पर कार्रवाई के लिए पहुंचा तो अफरा-तफरी मच गई। कमेटी के दस्ते ने सब्जी मंडी के अंदर बिना अनुमति के दुकानें लगाने वाले सब्जी व फल विक्रेताओं को खदेड़ना शरू किया। इसे हंगामा खड़ा हो गया। फल विक्रेताओं ने इसे गलत कार्रवाई बताया और सभी अपनी रेहड़ियों को छोड़ मंडी में एकजुट हो गए। उन्होंने मार्केट कमेटी के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। मार्केट कमेटी अधिकारियों का कहना है कि सब्जी मंडी में शेड के नीचे जो वैध दुकानदार बैठे हैं उनकी तरफ से सीएम विंडो पर मंडी के अंदर अवैध रूप से दुकान लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी। उसी के मद्देनजर यह कार्रवाई की गई है, लेकिन अब वही दुकानदार रेहड़ी फल विक्रेताओं का पक्ष ले रहे हैं।

जो भी मंडी में अवैध रूप से बैठा है उन सभी के खिलाफ होगी कार्रवाई

इधर शिकायत करने वाले दुकानदारों कहना है कि मामला रेहड़ी फल विक्रेताओं का नहीं था, बल्कि जो सुबह-सुबह किसान शेड के आसपास अवैध रूप से दुकान लगाकर माल बेचते हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी। इस पर मार्केट कमेटी ने तर्क दिया कि जब बात अवैध की होगी तो जो भी मंडी के अंदर अवैध रूप से बैठा है उन सभी के खिलाफ ही कार्रवाई होगी। यहां किसी तरह का पक्षपात कैसे हो सकता है। फल विक्रेताओं काे भी तो मंडी के अंदर रेहड़ी लगाने की कोई अनुमति नहीं है। वहीं कई देर के हंगामे के बाद मार्केट कमेटी के दस्ता यहां से लौट आया। अब बाकी कार्रवाई सोमवार को इस मामले पर की जाएगी। दुकानदारों की ओर से प्रदीप दलाल व ओमप्रकाश ने बताया कि जो लोग अवैध रूप से मंडी में फुटकर दुकानें लगाते हैं उन पर कार्रवाई होनी चाहिए।

जिनको अनुमति है उन्हीं की दुकानें लगेंगी

मार्केट कमेटी के सुपरवाइज अनिल कुमार ने बताया कि सब्जी मंडी के अंदर अतिक्रमण को लेकर कार्रवाई की गई है। सरकार व प्रशासन की तरफ से मंडी के अंदर जिनको दुकानें लगाने की अनुमति दी गई है, उन्हीं की दुकानें लगेंगी।

Edited By: Rajesh Kumar