भिवानी, जेएनएन। मनु भाकर टवीट विवाद मामले में अब फौगाट बंधुओं ने भी प्रदेश सरकार खेल मंत्री अनिल विज की टिप्पणी की निंदा की है और आरोप लगाया कि खिलाडिय़ों के सम्मान में सरकार गौर नहीं कर रही है।  

दंगल गर्ल के पिता व द्रौणाचार्य अवार्डी पहलवान महावीर फोगाट व उनके भाई सज्जन फौगाट ने कहा कि  युवा निशानेबाज मनु भाकर पर हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज को ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी।

ओलंपिक तक का सफर तय कर चुकी उनकी बेटी बबीता फोगाट को आज भी सब इंस्पेक्टर रैंक दिया हुआ है, जबकि कायदे से सरकार की नीति के मुताबिक डीएसपी बनाया जाना चाहिए था। यह सरकार की अनदेखी का ही परिणाम है। फोगाट बधुओं ने आरोप लगाया कि हाल में पुरस्कार राशि को लेकर उठे मामले में सारी गलती हरियाणा के खेल विभाग की है। जबकि खेल मंत्री गुस्सा इस निशानेबाज पर निकाल रहे हैं। मनु ने तो अपने टवीट से खेल मंत्री को पुरस्कार को लेकर ध्यान ही दिलाने का कार्य किया था। 

फोगाट ने कहा कि हरियाणा सरकार ने बाकायदा अधिसूचना जारी कर युवा ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने पर इनामी राशि 2 करोड़ रुपए करने की घोषणा की थी।महावीर फोगाट ने आरोप लगाया कुछ समय बाद ही सरकार ने दोबारा सूचना जारी कर इस इनामी राशि को घटाकर एक करोड़ रुपए कर दिया।  जिसके बाद मनु भाकर ने देश के लिए आईएसएसएफ कप 2018, राष्ट्रमंडल खेलों और युवा ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। इसी तरह बबीता फोगाट ने भी राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड, विश्व कप में गोल्ड और ओलंपिक तक का सफर तय कर चुकी है, लेकिन आज तक उसे हरियाणा सरकार ने केवल सब इंस्पेक्टर का ही पद दिया हुआ है।

बता दें कि हाल में ही शूटर मनु भाकर ने टवीट कर कहा था कि खेल मंत्री जी मुझे दी जाने वाली दो करोड़ की इनामी राशी की बात सही है या सिर्फ जुमला है। इस बात को लेकर खेल मंत्री अनिल विज बिफर गए थे। उन्‍होंने मनु को खेल पर ध्‍यान और माफी मांगने की बात कही थी। इसके बाद विवाद ने तूल पकड़ लिया था और सियासी बयानों का दौर भी शुरू हो गया था। सभी राजनीतिक दलों ने अपना बयान दिया और साक्षी मलिक की मां ने भी सरकार पर सवाल उठाए थे। अब दंगल गर्ल के पिता रेसलर महाबीर फोगाट ने सरकार पर निशाना साधा है।

Posted By: manoj kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस