भिवानी, अशोक ढिकाव। भिवानी में कोरोना की तीसरी लहर में कहर बरपना शुरू हो गया है। पिछले कोरोना काल में श्मशानघाट में लकड़कियों की कमी को देखते हुए प्रदेश सरकार ने प्रदेश के 21 जिलों में एलपीजी संचालित शवदाह संस्कार प्लांट बनाने का प्लान तैयार किया था। इसके तहत अब भिवानी के हालुवास गेट स्थित मुक्तिधाम में करीब 66 लाख रुपये खर्च कर यह प्लांट बनाया गया है। यह प्लांट बनकर तैयार हो चुका है और प्रशासन के आला अधिकारियों की अनुमति के बाद शुरू किया जाएगा।

हालुवास गेट स्थित मुक्तिधाम में 66 लाख रुपये के खर्च से बनाया गया है प्लांट

जिले में कोरोना काल में कोरोना से मरने वालों के लिए कोविड-19 गाइडलान के तहत हालुवास गेट स्थित मुक्तिधाम में कोरोना से मरने वालों के दाह संस्कार के लिए अधिकृत किया था। पिछले कोरोना काल में 654 लोगों की मौत हुई थी। जिसमें से शहरी क्षेत्र के लगभग सभी दाह संस्कार नगर परिषद कोरोना योद्धाओं ने यहां किए थे, लेकिन उस दौरान लकड़िकयों की भारी कमी पड़ गई थी। जिसके बाद स्थिति को देखते हुए प्रदेश सरकार ने नगर परिषद के माध्यम से यहां पर एलपीजी दाह संस्कार प्लांट लगाए जाने की योजना तैयार की थी। इस योजना के तहत अम्बाल की एक निजी कंपनी से नगर परिषद द्वारा यह प्लांट बनाया गया है। करीब एक साल से इस प्लांट का काम चल रहा था, जो कि अब पूरा हो चुका हैं। अगर हालात बिगड़ते है और तीसरी लहर में अप्रिय स्थित पैदा होती है तो यहां पर यह शव जलाए जाने के लिए प्रशासन ने व्यवस्था की है।

भिवानी के नप चेयरमैन के अनुसार

कोविड-19 गाइड लाइन के तहत हालुवास गेट मुक्तिधाम में कोरोना पीड़ितों के शव जलाने के लिए अलग से एलपीजी प्लांट बनाया गया है। वह बनकर तैयार हो गया है। अगर स्थित दयनीय होती है प्लांट को तुरंत प्रभाव से शुरू किया जाएगा।

---- रणसिंह यादव, चेयरमैन नप भिवानी।

Edited By: Naveen Dalal