जागरण संवाददाता, हिसार : निगम चुनाव को लेकर मंगलवार देर शाम को जारी हुई वोटर लिस्ट के बाद पार्षद और जनता निगम के चक्कर काट रही है। बुधवार को वोटर लिस्ट को लेकर जब पार्षद प्रतिनिधि पंकज दीवान नगर निगम में जानकारी लेने पहुंचे तो उन्हें समझ नहीं आया क्या हुआ। ढाई हजार से ज्यादा वोट उनके वार्ड में जोड़ रखे हैं, जिनको लेकर वह पूर्व में आपत्ति जता चुके थे। महिला पार्षद शालू दीवान से पत्र लिखवाकर जब पार्षद प्रतिनिधि ने निगम अधिकारियों से वोटर लिस्ट संबंधी डिटेल मांगी। तब बीआइ बोले की आरटीआइ लगा लो, दे देंगे। इससे खफा पार्षद प्रतिनिधि ने पार्षद शालू दीवान को बुलाया। वह मौजिज लोगों के साथ निगम आयुक्त अशोक बंसल के पास पहुंची। पार्षद व मौजिज लोगों को निगम आयुक्त ने आश्वासन दिया कि बृहस्पतिवार को वह डिटेल मुहैया करवा देंगे।

वहीं जब मृत लोगों के नाम सूची में होने की बात आई तो निगम आयुक्त बोले कि मरने वाले की हमारी कोई जिम्मेदारी नहीं है। घर वाले खुद वोटर लिस्ट में नाम को लेकर आपत्ति दर्ज करवाए। हमने केवल विधानसभा लिस्ट को बूथ में बदला है। जब निगम आयुक्त से 19 हजार जनसंख्या में 16 हजार से ज्यादा वोटर होने को लेकर नियम की बात उठी। तो उन्होंने इस प्रकार के नियम संबंधी जानकारी होने से साफ इन्कार कर दिया। डिटेल मुहैया करवाने के आश्वासन के बाद महिला पार्षद शालू दीवान और अन्य मौजिज लोग संतुष्ट हुए।

.......

ये है मामला

वार्ड तीन से महिला पार्षद शालू दीवान के पति व पूर्व पार्षद पंकज दीवान वार्ड की वोटर लिस्ट देखने को पहुंचे। क्योंकि उनके वार्ड में 16784 मतदाता दर्शाएं गए थे। इस संबंध में उन्होंने बूथ लिस्ट देखी तो पता चला की ढाई हजार से ज्यादा वोटर उनके वार्ड में दूसरे वार्डों से जोड़ दिए गए है। इस पर उन्होंने पार्षद से लेटर पैड पर पत्र लिखवाकर जानकारी मांगी। जिसमें उन्होंने कहा कि उन्हें 2013 की बूथ व वोटर लिस्ट संबंधी जानकारी दी जाए। कोई व्यक्ति मर गया है या ¨जदा है। उसका वोटर किस कॉलोनी में पड़ता है। इसी जानकारी नई वोटर लिस्ट में नहीं है। इसकी जानकारी दी जाए। नगर निगम आयुक्त ने उन्हें बीआइ सुनील लांबा के पास भेज दिया। पार्षद प्रतिनिधि से पत्र लेकर बीआइ ने कहा कि यह जानकारी उन्हें नहीं दे सकते है। 2013 की लिस्ट उनके पास भी नहीं है। यदि जानकारी चाहिए तो आरटीआइ लगा लो। इससे गुस्साएं पार्षद प्रतिनिधि ने सारी जानकारी महिला पार्षद को दी। महिला पार्षद शालू दीवान निगम पहुंची। वहीं पार्षद प्रतिनिधि के पक्ष में गुलजार काहलो, विजय, दर्शन खुराना, छोटू नागपाल, बिट्टू सोनी, नितेश व सन्नी आदि लोग पहुंच गए। सभी ने निगम आयुक्त को बीआइ के व्यवहार संबंधी बात की। इस पर निगम आयुक्त ने कहा कि बीआइ ने ऐसा व्यवहार किया है तो वह गलत है। जहां तक मांगी गई जानकारी की बात वह स्वयं बृहस्पतिवार को मुहैया करवा देंगे।

..

बातचीत के कुछ अंश

. पार्षद शालू दीवान - वोटर लिस्ट में कई मृत लोग हैं।

. निगम आयुक्त - मरे हुए लोगों की उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है। विधानसभा लिस्ट के अनुसार बूथ लिस्ट तैयार की गई है। यदि किसी का परिजन मृत है तो घर वाले आपत्ति दर्ज करवाएं।

. पार्षद प्रतिनिधि पंकज दीवान - वोटर लिस्ट में एरिया का नहीं पता है। कॉलोनी की जानकारी नहीं है। ऐसे में कैसे वोटर तक पहुंच सकेंगे।

निगम आयुक्त - हमने विधानसभा की लिस्ट के अनुसार तैयार की है। कोई नयी नहीं बनाई। वोटर तक पहुंचना पार्षद का काम है।

. पार्षद प्रतिनिधि - साल 2013 में 14 हजार वोटर थे। इस साल 16784 वोटर हो गए है। जो एरिया बूथ से हटाया था। उसे भी जोड़ दिया गया है। आपके बीआइ सहयोग मांगने के लिए आते है। तब हम सहयोग करते है। गलती हो गई, जो गलत वोटर पर साइन कर गए।

निगम आयुक्त - ऐसी बात नहीं है। आपके सहयोग के बिना वार्ड बंदी व लिस्ट बनाना संभव नहीं है। आप लोग ही सहयोग करेंगे।

. पार्षद प्रतिनिधि - दो दिन पहले जब बूथ लिस्ट सही करवाई थी। दो दिन बाद ही लिस्ट बदल दी।

. निगम आयुक्त - ऐसा नहीं है। यदि कुछ गलत हुआ है तो आप शिकायत दे।

वर्जन............

उन्हें जानकारी देने को मना नहीं किया था। आरटीआइ से जानकारी संबंधी कोई बात नहीं हुई।

- सुनील लांबा, बीआइ, नगर निगम

........

वोटर लिस्ट संबंधी आपत्तियां मांगी गई है। पार्षद को जानकारी दी जाएगी। कोई भेदभाव नहीं होगा।

- अशोक बंसल, निगम आयुक्त

........

जानकारी देने से निगम इनकार नहीं कर सकता है। वार्ड में 16784 वोटर बना दिए है। जबकि जनसंख्या कई वार्डों से कम है। यह कैसा नियम नगर निगम लागू कर रहा है। बीआइ मिलीभगत के चलते ऐसा हुआ है।

- शालू दीवान, पार्षद वार्ड तीन।

By Jagran