हिसार, जेएनएन। शादी में उम्र भर साथ निभाने और ख्‍याल रखने के वचन भरने वाला पति ही अगर पत्‍नी की जान का दुश्‍मन बन जाए तो क्‍या हो। सोचने में भले ही अजीब है मगर एक ऐसा ही मामला सामने आया है। हिसार के कैंट एरिया में एक पूर्व सैनिक ने अपने भाई के साथ मिलकर हथौड़े से वार कर अपनी पत्नी की हत्या कर दी। मृतका के भाई की शिकायत पर पुलिस ने आरोपित पति और जेठ के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

शिकायत में मृतका के भाई जीतेंद्र ने बताया कि झज्जर जिले के गांव भापड़ोदा निवासी उसकी बहन सुमन की शादी 22 साल पहले बास गांव के राजेंद्र के साथ हुई थी। उनके दो बेटे कमल और उज्जवल हैं। कमल देहरादून की एक एकेडमी में एनडीए की कोचिंग ले रहा है और उज्ज्‍वल यहां एक निजी स्कूल में बारहवीं कक्षा का छात्र है। राजेंद्र सेना से रिटायर होने के बाद कैंट के सामने की न्यू डिफेंस कालोनी में परिवार समेत रह रहा है। सुमन शाम को करीब साढ़े पांच बजे दूध लाने के लिए अंदर बर्तन लेने गई थी। इस दौरान उसके जेठ राजबीर सिंह और उसके पति राजेंद्र कुमार ने उस पर हथौड़े से हमला कर दिया गया।

भाई मैं बचूंगी नहीं, मेरे कातिलों को सजा जरूर दिलवाना

शनिवार को करीब ढाई बजे बहन सुमन ने फोन अपने भाई को फोन किया था। इस दौरान सुमन ने बताया था कि उसका पति झगड़ा कर रहा है। जितेंद्र ने कहा कि वह शाम को करीब छह बजे न्यू डिफेंस कालोनी में पहुंचा तो सुमन घर में फर्श पर पड़ी तड़प रही थी। तब सुमन ने बताया कि जेठ राजबीर ने मुझे पकड़ लिया था और पति ने हथौड़े से गर्दन, छाती और पेट पर ताबड़तोड़ वार किए। भाई मैं बचूंगी नहीं, मेरे पति और जेठ पर कार्रवाई जरूर कराना। उसके बाद जितेंद्र सुमन को एक वाहन में शहर के एक प्राइवेट अस्पताल में ले गया। वहां उसने इलाज के दौरान देर रात दम तोड़ दिया। सूचना मिलने पर एएसआइ सुरेंद्र कुमार की टीम ने शव कब्जे में ले लिया। शव का पोस्टमार्टम रविवार को सिविल अस्पताल में किया गया। सदर थाना पुलिस ने मृतका के भाई जितेंद्र सिंह की शिकायत पर पति राजेंद्र और जेठ राजबीर सिंह के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है।

मृतका सुमन की फाइल फोटो

कई बार सुमन ने पुलिस को दे चुकी थी शिकायत

जितेंद्र ने बताया कि राजेंद्र सनकी किस्म का आदमी है। वह शुरू से बेवजह सुमन से मारपीट करता आ रहा है। वे कई बार पंचायत लेकर आए और उसे समझाकर गए। वह थोड़े दिन ठीक रहता था और फिर अपनी हरकतों पर उतर आता था। सुमन ने डेढ़ साल पहले महिला हेल्पलाइन नंबर 1091 पर फोन कर पुलिस से मदद मांगी थी। तब मामला सदर थाना में पहुंचा था। तब राजेंद्र के भविष्य में ठीक रहने का भरोसा दिलाने पर समझौता हो गया था। उसके बाद सुमन ने दो-तीन याचिका महिला थाना में दी थी। तब भी समझौता हो गया था।

Posted By: manoj kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस