जागरण संवाददाता, हिसार : कोविड-19 के भयावह दौर में मानव सेवा में जीवन समर्पित करने वाले कोरोना योद्धा प्रवीन प्रधान को मंगलवार को श्रद्धांजलि दी जाएगी। श्मशानभूमि में शवों का अंतिम संस्कार करते हुए कोरोना के कारण उनकी तबीयत बिगड़ी और उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। जहां 17 मई 2021 को वे जिदगी को अलविदा कह गए। प्रवीन प्रधान ने अपना जीवन के अधिकांश पल कर्मचारी हित की लड़ाई लड़ते हुए बिताए। कर्मचारियों के हक के लिए हमेशा आवाज बुलंद की। सफाई की कमान संभालने से लेकर श्मशान में कोरोना के कारण मरने वालों के दाह संस्कार करने तक की उन्होंने अहम जिम्मेदारी निभाई। मंगलवार को नगर निगम प्रांगण में उन्हें याद किया जाएगा।

जानें कौन है प्रवीन प्रधान

हिसार शहर की सफाई व्यवस्था संभाल रही नगर पालिक कर्मचारी संघ के ईकाई प्रधान थे प्रवीन कुमार। करीब 700 सफाई कर्मचारियों की कमान संभालते थे। शहर के पावरफुल लोगों में से एक थे प्रवीन प्रधान। कर्मचारी हित के लिए जब भी वे आवाज बुलंद करते तो उनके एक इशारे पर पूरे शहर की सफाई व्यवस्था पर ब्रेक लग जाता था। नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रधान होने के बावजूद उन्होंने कोरोना के कारण मरने वालों के अंतिम संस्कार की 12 अप्रैल 2020 से कमान संभाली । एक साल से अधिक समय से अपनी टीम सदस्यों के साथ मिलकर कोरोना के कारण जान गंवाने वाले 300 से अधिक शवों का अंतिम संस्कार किया। अंतिम संस्कार पर मिलने वाली राशि का अधिकांश हिस्सा दान देने से लेकर जरुरतमंद की मदद करने में खर्च कर दिया। वे कोरोना पॉजिटिव हो गए और अंत में जिदगी को अलविदा कर गए।

Edited By: Jagran