बहादुरगढ़, जागरण संवाददाता। हरियाणा सरकार ने गौशालाओं में सस्ता चारा उपलब्ध करवाने और किसानों को फसल का एक विकल्प उपलब्ध करवाने के उद्देश्य के लिए चारा बिजाई योजना शुरू की है। इस योजना के तहत गौशालाओं के पास चारा उगाने वाले किसानों को प्रति एकड़ 10 हजार रुपए का अनुदान मिलेगा। यह अनुदान एक किसान को अधिकतम एक लाख रुपए तक ही मिलगा।

चारा बिजाई योजना के लिए 15 जुलाई तक ऑनलाइन आवेदन

आजादी अमृत महोत्सव के तहत हरियाणा सरकार की ओर से पंजीकृत गोशालाओं को सस्ती दरों पर चारा मुहैया करवाने के लिए हरा चारा बिजाई योजना शुरू की गई है। इस योजना के अंतर्गत जो भी किसान गौशाला के आस-पास चारा उगाएगा, उसे हरियाणा सरकार की ओर से प्रति एकड़ दस हजार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। यह आर्थिक सहायता अधिकतम एक लाख रुपए है। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उप निदेशक डा. इंद्र सिंह ने बताया कि योजना के तहत आर्थिक लाभ लेने के लिए 15 जुलाई 2022 तक किसान अपना विवरण मेरी फसल मेरा-ब्यौरा पोर्टल पर अपलोड करवा सकते हैं। योजना के अनुसार एक किसान दस एकड़ भूमि तक ही अधिकतम लाभ ले सकता है। दस एकड़ के लिए उसको एक लाख रुपए का अनुदान डीबीटी के माध्यम से मिलेगा।

कृषि यंत्रों पर अनुदान के सफल आवेदक 10 जुलाई तक करें बिल जमा

सरकार की योजना के तहत कृषि यंत्रों की खरीद के लिए कागजात जमा करवाकर परमिट लेने वाले किसान कृषि यंत्र की खरीद का बिल व अन्य जरूरी दस्तावेज 10 जुलाई तक सहायक कृषि अभियंता के कार्यालय में जमा करवा सकते हैं। बिल जमा करवाने के बाद ही अनुदान को लेकर आगामी कार्यवाही शुरू की जा सकेगी।

कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपमंडल अधिकारी डॉ सुनील कौशिक ने जानकारी देते हुए बताया कि झज्जर जिला में वर्ष 2022-23 के लिए एसएमएएम व अन्य स्कीमों के अंतर्गत अनुदान पर कृषि यंत्रो के लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। जिन पात्र किसानों ने सहायक कृषि अभियंता झज्जर के कार्यालय में सभी कागजात जमा करवाकर परमिट प्राप्त कर लिया है, वे सरकार द्वारा अनुमोदित निर्माताओं से कृषि यंत्र खरीद कर उनके बिल, ई-वे बिल, मशीन के साथ फोटो (जीपीएस लोकेशन के साथ) 10 जुलाई तक सहायक कृषि अभियंता झज्जर के कार्यालय में जमा करवाएं ताकि अनुदान बारे आगामी कार्यवाही की जा सके।

Edited By: Naveen Dalal