जागरण संवाददाता, हिसार : हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय को कृषि उत्पादकता में वृद्धि और ग्रामीण समृद्धि में महती योगदान के लिए प्रतिष्ठित कृषि शिक्षा सम्मान अवार्ड प्रदान किया गया है। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने नई दिल्ली के अशोका होटल में आयोजित अवार्ड समारोह में कुलपति प्रो. केपी सिंह को यह अवार्ड प्रदान किया। अवार्ड में विश्वविद्यालय को प्रशस्ति-पत्र, ट्रॉफी और 1 लाख 11 हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिए गए हैं। यह दूसरा अवसर है जब विश्वविद्यालय को इस अवार्ड के लिए चुना गया। इससे पूर्व वर्ष 2015 में इस विश्वविद्यालय को यह अवार्ड प्रदान किया गया था। इस मौके पर महेन्द्रा के प्रबंधक निदेशक पवन गोयंका और हकृवि के अनुसंधान निदेशक डा. एसके सहरावत भी मौजूद रहे।

यह अवार्ड फार्म मशीनरी क्षेत्र में अग्रणी कंपनी महेन्द्रा एंड महेन्द्रा लिमिटेड की तरफ से स्थापित किया गया है, जिसका यह 9वां संस्करण है। इस अवार्ड का मुख्य उद्देश्य कृषि क्षेत्र में उत्पादकता वृद्धि और ग्रामीण समृद्धि में आशयपूर्ण योगदान करने वाले संस्थानों को प्रोत्साहन देना है। कुलपति ने कहा कि यह अवार्ड विश्वविद्यालय के उत्तम अनुसंधान और विस्तार कार्यों का प्रमाण है। उन्होंने कहा कि हम कृषि उत्पादन बढ़ाने और किसानों को समृद्ध बनाने का उद्देश्य लेकर आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा का केन्द्रीय खाद्यान्न भंडारण में योगदान देने में दूसरा स्थान है। कुलपति ने कहा कि यह अवार्ड हरियाणा राज्य और इस विश्वविद्यालय के शिक्षक व गैर-शिक्षक कर्मचारियों और विद्यार्थियों के लिए गर्व और हर्ष का विषय है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran