मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

हिसार, जेएनएन। चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय को हरियाली के लिए जाना जाता है। हर सुबह अधिकारियों से लेकर शहर के मौजिज लोग मॉर्निंग वॉक के लिए यहां आते है। लोगों में प्रकृति प्रेम को जागृत करने और उसे बढ़ावा देने के लिए एचएयू एग्रो टूरिज्म सेंटर का निर्माण कर रहा है। मगर, एग्रो टूरिज्म सेंटर बनाने के चक्कर में एचएयू के वन विभाग के अधिकारी पेड़ काटने में लगे हुए है।

नर्सरी विकसित करने के नाम पर सफेदे के बड़े पेड़ों को काटा जा रहा है। पर्यावरण को बढ़ावा देने की बजाय पर्यावरण को ही नुकसान पहुंचाया जा रहा है। बॉटनिकल गार्डन में एगो टूरिज्म सेंटर विकसित करने के नाम पर पेड़ काटने काम जारी है। शुक्रवार को सफेदे सहित विभिन्न पेड़ काटे गए। उससे पूर्व भी पेड़ कई पेड़ों को काटा गया है। जिस तरह से विकास के नाम पेड़ काटे जा रहे है, उससे नहीं लगता है कि लंबे समय तक एचएयू में हरियाली बरकरार रह सकती है।

अधिकारियों की माने तो एचएयू में एग्रो टूरिज्म विकसित किया जाना है। इसी आधार पर एचएयू में पेड़ काटकर जगह खाली की जा रही है। जबकि हरसेक के साथ और कई अन्य जगह पूरी तरह से खाली है। जहां पर बिना पेड़ काटे नर्सरी तैयारी की जा सकती है।

-------

एग्रो टूरिज्म के लेकर पेड़ काटकर जगह बनाई जा रही है। वन विभाग के नियमानुसार पेड़ काटे जा रहे है।

कर्ण सिंह, लैड स्कैप ऑफिसर

Posted By: manoj kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप