जागरण संवाददाता, हिसार : गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के ट्रेनिग एंड प्लेसमेंट सेल के सौजन्य से भारतीय वायु सेना में करियर विषय पर एक और उद्भावना टॉक शो-सह-वेबिनार का आयोजन किया। 1999 में भारतीय वायु सेना की फ्लाइंग ब्रांच में नियुक्त विग कमांडर राकेश कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे। समारोह की अध्यक्षता सहायक निदेशक डा. आदित्यवीर सिंह ने की। उद्भावना कोऑर्डिनेटर शालिनी शर्मा और नित्या चुघ ने कार्यक्रम की मेजबानी की। उन्होंने भारतीय वायु सेना में एक अधिकारी की जीवन शैली और कर्तव्यों के बारे में सवाल पूछे। विग कमांडर राकेश सिंह ने कहा कि भारतीय वायुसेना तीनों सेनाओं में सबसे युवा सेना है। यह भारतीय सशस्त्र बलों की वायु सेना है। यह कर्मियों और विमान दोनों के मामले में दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायु सेना है। उन्होंने कहा कि भारतीय वायु सेना में काम करना सुपरसोनिक जेट, अत्याधुनिक तकनीक और बेहतरीन लोगों के बीच में होना है। उन्होंने भारतीय वायुसेना की आधुनिक सुविधाओं के बारे में भी चर्चा की। उन्होंने भारतीय वायुसेना के अनूठे तरीकों के बारे में बताया और कहा कि यहां एक ऐसा वातावरण तैयार होता है जहां से आप बहुत अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। आप अपने और अपने परिवार के लिए एक सुरक्षित भविष्य की शुरुआत करने के लिए भारतीय वायु सेना में शामिल हो सकते हैं। हालांकि, भारतीय वायु सेना केवल स्नातकों के लिए संभावनाओं पर अधिक ध्यान केंद्रित करती है। राकेश सिंह ने विद्यार्थियों को बताया कि भारतीय वायु सेना में सभी प्रकार के पाठ्यक्रमों के लिए भर्ती रक्षा मंत्रालय द्वारा नई दिल्ली में मुख्यालय द्वारा की जाती है। रक्षा मंत्री विभिन्न प्रमुख दैनिक समाचार पत्रों और अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अधिसूचनाएं प्रकाशित करते हैं।

Edited By: Jagran