जागरण संवाददाता, भिवानी। पूर्व सांसद और हाल ही में तृणमूल कांग्रेस में शामिल डा. अशोक तंवर ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रदेश में एक सप्ताह में अपनी कार्यकारिणी बना देगी। जनवरी में प्रदेश में उनकी यात्रा शुरू होगी जिसके समापन पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की सिरमौर ममता बनर्जी को बुलाया जाएगा। कांग्रेस में उन पर जो आरोप लगाते थे वहां आजतक संगठन खड़ा नहीं हो पाया है। उनकी पार्टी टीएमसी देश में गुलाम की बजाए सहयोगी ढूंढ रही है। वह रविवार को भिवानी के सेक्टर 13 में सुभाष कौशिक के घर पर उनके बेटे को आशीर्वाद देने पहुंचे थे।

टीएमसी राष्ट्रीय स्तर पर काम कर रही है

अशोक तंवर ने कहा कि देश को बचाने के लिए टीएमसी राष्ट्रीय स्तर पर काम कर रही है। गैर भाजपा और कांग्रेस के सभी दल टीएमसी के साथ मिलकर देश को बचाने के लिए कदम बढ़ा रहे है। ममता बैनर्जी पिछले दिनों उत्तर प्रदेश, महराष्ट्र सहित अनेक प्रदेश में नेताओं से मिली। डा. तंवर ने कहा कि टीएमसी जमीनी स्तर पर काम करेगी। लोगों की समस्याओं को प्रमुखता से उठाया जाएगा। विरोध उनका अभी भी चल रहा है लेकिन आने वाले एक सप्ताह में मजबूत संगठन कर जोर शोर से शुरूआत होगी। पार्टी की जनवरी में प्रदेश भर में यात्रा निकाली जाएगी और संगठन को मजबूत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि देश में टीएमसी रूझान तेजी से बढ़ रहा है। पार्टी की कुछ दिन पहले कलकता में वर्किंग कमेटी की बैठक हुई थी। उसमें पार्टी संविधान के अनिवार्य बदलाव करने पर सहमति बनी। राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी काे मजबूत करने पर बल दिया गया।

उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि विपक्ष का स्पेस कांग्रेस छोड़ रही है। वह पार्टी हाशिये पर है। इसका पार्टी का नेतृत्व ही जिम्मेदार है। पार्टी में सांठगांठ, अनुशासनहिनता, गुटबाजी, भाई चारा बिगाड़ने वाले और एसी कल्चर में रहने वाले ज्यादा हो गया है। इसके कारण ही कांग्रेस के हालात बुरे है।

उन्होंने कहा कि आज देश को विकल्प की जरूरत जो टीएमसी बनकर उभरेगी। इसकी शुरूआत गोवा चुनाव से होगी और उनकी सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि बाकी राज्यों के चुनाव में अलायन्स की सरकार बनाकर मोदी सरकार को चुनौती देंगे।

पार्टियां कार्यकर्ताओं की मजदूरी मार रही है

हरियाणा में दूसरी पार्टी से जुड़ने के सवाल पर कहा कि पार्टियां कार्यकर्ताओं की मजदूरी मार रही है। वह ऐसी पार्टी में नहीं जा सकते थे जो न समझे। उन्होंने कहा कि किसानों की मांग सरकार को माननी चाहिए। उनका किसानों को पूरा समर्थन है।

Edited By: Rajesh Kumar