जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : पिछले कुछ दिनों से जिले में अच्छी बरसात नहीं हुई थी। जिससे किसान भी परेशान नजर आ रहे थे, लेकिन शुक्रवार सुबह एकाएक मौसम ऐसा बदला कि डेढ़ घंटे की बरसात ने शहरवासियों को परेशान कर दिया। इस दौरान शहर में 50 एमएम बरसात दर्ज की गई। इसके अलावा टोहाना व जाखल में भी 35 एमएम बरसात दर्ज की गई है। जिले में सभी जगह पर अच्छी बरसात हुई। भूना खंड के असपास के गांवों में बरसात नहीं हुई है। ऐसे में उम्मीद है कि यहां पर अच्छी बरसात हो जाएगी।शुक्रवार सुबह 7 बजे ही तेज हवाओं के साथ बरसात शुरू हो गई। बरसात इतनी अधिक थी कि कुछ ही समय में शहर की सड़कें तालाब बन गई। जिस तरह लोग स्विमिंग पुल में नहाते है उसी तरह बच्चे सड़कों पर नहाते हुए नजर आए।

यहां हुई सबसे अधिक दिक्कत

शहर के वाल्मीकि चौक, जवाहर चौक, लालबत्ती चौक, माडल टाउन, बीघड़ रोड, खेमाखामी राेड, भट्टूरोड आदि में डेढ़ से दो फुट तक पानी भर गया। सुबह 9 बजे सरकारी कार्यालय खुलने के कारण सड़कों पर लंबी वाहन लग गई। सड़कों पर पानी इतना अधिक था कि अनेक वाहन सड़क के बीच में ही बंद हो गए। वहीं अनेक लोग सड़क के गड्ढों में जा भी गिरी। इसके अलावा अनेक घरों में पानी भर गया।

वाल्मीकि चौक पर भरा 3 फुट तक पानी

सबसे बुरा हाल वाल्मीकि चौक पर रहा। यहां पर तीन फुट तक पानी भर गया। वाहन आधे से अधिक डूब गए। जिससे लोगों को परेशानी हुई। जनस्वास्थ्य विभाग ने यहां से पानी निकासी के लिए पंप सेट लगा रखा है। लेकिन यह भी डूब गया। ऐसे में न तो कोई अधिकारी नजर आया अौर न ही कोई कर्मचारी। जिस तरह मौसम बदल रहा है अगर आने वाले समय में तेज बरसात होगी तो पानी निकासी की समस्या पैदा हो जाएगा।

फसलों का फायदा

बेशक इस बरसात से शहरवासी पानी निकासी को लेकर परेशान नजर आए, लेकिन बरसात फसलों के लिए वरदान से कम नहीं है। पिछले कुछ दिनों से जिले में बरसात नहीं हो रही, ऐसे में उम्मीद जताई जा रही थी कि अच्छी बरसात होगी। किसानों की माने तो बरसात नरमें, बाजरा व ग्वार की फसलों के लिए फायदेमंद है। अगर अगले 10 दिनों तक भी अच्छी बरसात होती है तो कोई नुकसान नहीं होगा।

Edited By: Manoj Kumar