नारनौंद [सुनील मान] कृषि कानूनों को लेकर चल रहे विरोध में अब किसान अलग अलग तरह के फैसले ले रहे हैं। पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ने से आक्रोषित किसानों ने अब दूध के भाव भी बढ़ाने का फैसला लिया है। ऐतिहासिक फैसले को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाली सतरोड़ खास में एक बार फिर एक ऐतिहासिक फैसला लेते हुए ऐलान किया है कि सतरोल खाप के अंदर जितने भी गांव आते हैं। वह सरकार को सो रुपए किलो दूध देंगे और जैसे-जैसे तेल के दाम बढ़ेंगे वैसे वैसे हर दिन दूध के दाम भी बढ़ाते जाएंगे और जिस भी युवक ने इस फैसले का पालन नहीं किया तो उसको 11 हजार जुर्माना भी लगाया जाएगा।

सतरोल खाप की महापंचायत कस्बे की अनाज मंडी में खाप के प्रधान रामनिवास लोहान की अध्यक्षता में हुई। सभी ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि जो भी किसान या मजदूर अपने पशुओं का दूध सरकार की डेयरी या अन्य उपकरमो को दूध देता है। तो वह आज से ही 100  रुपए किलो के हिसाब से दूध बेचे और जिस भी किसान ने इस फैसले का उल्लंघन किया तो उसको 11 हजार जुर्माना लगाया जाएगा। जो किसान गांव में दूध अन्य लोगों को भेजता है वह पुराने रेट पर ही दे सकता है।

सतरोल खाप के प्रधान रामनिवास लोहान ने बताया कि खाप के लोगों से सलाह मशवरा करके यह निर्णय लिया गया है। जब तक सरकार इन तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती तब तक सरकार को दूध 100 रुपए किलो दिया जाएगा।

सर्व जातीय सर्व खाप के प्रदेश प्रवक्ता मास्टर फूल कुमार पेटवाड़ ने बताया कि खाप ने सरकार को 100 रूपया किलो दूध देने का फैसला लिया है। साथ ही भाजपा व जेजेपी के नेता खाप के किसी भी गांव में घुसने पर भी पूर्ण रूप से रोक लगाई गई है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021