जागरण संवाददाता, रोहतक : पशुपालकों की आय अब पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना बढ़ाएगी। पशुपालन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक पशुपालकों की आय बढ़ाने के लिए ही सरकार की ओर से यह योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत पशुपालक को ऋण का केवल चार प्रतिशत के हिसाब से भुगतान करना होगा। वहीं, ऋण का समय पर भगुतान करने पर तीन प्रतिशत ब्याज दर का अनुदान भी मिलेगा। पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ उठाने के लिए पशुपालकों को प्रेरित भी किया जा रहा है।

पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के तहत गाय, भैंस, भेड़, बकरी, सूकर, मुर्गी के रखरखाव के लिए तीन लाख रुपये तक का ऋण मिल सकता है ताकि पशुपालकों की आर्थिक स्थिति सुधर सके। छोटे किसानों के लिए पशुपालन व अन्य क्षेत्रों से होने वाली आय को बढ़ाने के उद्देश्य से यह योजना चलाई जा रही है।

पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के तहत किसान अपने पशुओं की देखभाल पर होने वाले खर्च के लिए पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से ऋण ले सकते हैं। कोई भी पशुपालक एक लाख 60 हजार रुपये तक की राशि की लिमिट तक का पशुधन किसान के्रेडिट कार्ड बिना कोई जमीन गिरवी रखें या किसी प्रकार गारंटी न देते हुए बनवा सकता है। कोई पशुपालक इस राशि से अधिक लिमिट का पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहता है तो उसे अपनी जमीन या कोई जमानत देना अनिवार्य होगा।

पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड धारक को सालाना सात प्रतिशत साधारण ब्याज दर पर बैंक ऋण देगा। कार्डधारक अपने ऋण का समय पर भुगतान करता है तो उसे केंद्र सरकार की तरफ से तीन प्रतिशत ब्याज दर का अनुदान भी दिया जाएगा। जिससे उस पशुपालक को यह ऋण केवल चार प्रतिशत के हिसाब से चुकाना होगा।

साल में एक दिन पूरी राशि को जमा करवाना जरूरी

अधिकारियों का यह भी कहना है कि कार्डधारक ऋण की राशि जरूरत के अनुसार समय-समय पर ले सकते हैं और सुविधा अनुसार जमा करवा सकते हैं। कार्ड धारक को ऋण राशि निकलवाने या खर्च करने के एक साल की अवधि के अंदरर किसी भी एक दिन लिए गए ऋण की पूरी राशि को जमा करवाना अनिवार्य है ताकि साल में एक बार ऋण की मात्रा शून्य हो जाए। प्रशासनिक अधिकारी भी पशुपालकों को इसका लाभ उठाने को प्रेरित कर रहे हैं।

---पशुपालक अपने नजदीकी राजकीय पशु चिकित्सालय या बैंक में जाकर पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है। आवेदन करने के लिए पशुपालक को आधार कार्ड, पैन कार्ड, पशु का बीमा, पशु का हेल्थ सेर्टिफिकेट आदि आवेदन पत्र सहित बैंक में जमा करवाना होगा।

- कैप्टन मनोज कुमार, जिला उपायुक्त, रोहतक ।

Edited By: Manoj Kumar