हिसार, जेएनएन। हिसार जिले में डॉग बाइट के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। शहर के नागरिक अस्पताल में प्रतिदिन 30 से 35 मामले डॉगबाइट के सामने आ रहे हैं। जबकि एक साल पहले सिर्फ 3 से 4 मामले ही डॉग बाइट के आते थे। लेकिन अब यह मामले लगातार बढ़ रहे हैं। शहर में बढ़ते जा रही कुत्तों की संख्या को कंट्रोल करने के लिए पशुपालन एंव डेयरी विभाग के महानिदेशक की ओर से शहरी स्थानीय निकाय विभाग के निदेशक को पत्र भेजा गया था।

लेकिन उसके बाद भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके अलावा स्ट्रीट डॉग को पकडऩे को लेकर कोई प्लान भी नहीं बनाया गया। जिस कारण आए दिन लोगों को डॉग बाइट का शिकार होना पड़ रहा है। नगर निगम अधिकारी भी जिलावासियों की इस समस्या से दूरी बनाए हुए हैं।

सोमवार को फिर 92 टीके लगे, इनमें 33 नए मामले

सोमवार को भी नागरिक अस्पताल में डॉग बाइट के 92 एंटी रेबीज के टीके लगाए गए। जिनमें से 33 मामले नए थे। इनमें 15 मामलों में पालतू कुत्तों द्वारा काटने के मामले सामने आए वहीं 18 मामलों में आवारा कुत्तों ने काटकर घायल किया था। गौरतलब है कि पालतू कुत्तों का नगर निगम में पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। वहीं शनिवार को भी 120 मरीजों को टीके लगाए गए थे, जिनमें 35 नए मामले थे।

ये भी जानें

नेशनल रैबिज कंट्रोल प्रोग्राम के तहत टीम ने लावारिस कुत्तों के जन्म पर कंट्रोल करने के लिए उनका बधियाकरण किया था। जिसमें जुलाई 2015 से 31 मई 2016 तक 18550 कुत्तों का बधियाकरण हो चुका है। वर्तमान में कुत्तों के बधियाकरण का कार्य बंद है। जिस कारण शहर में कुत्तों की संख्या में काफी इजाफा हो चुका है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021