रोहतक, जागरण संवाददाता। रोहतक के पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के निदेशक की कुर्सी के लिए संस्थान के ही 13 चिकित्सक दौड़ में शामिल हैं। यहां निदेशक बनने की इच्छा रखने वालों की कमी बाहर के मेडिकल कालेजों में भी नहीं है। बाहर के भी करीब 10 चिकित्सकों ने डायरेक्टर पद के लिए आवेदन कर रखा है। दरअसल 17 अक्तूबर को निदेशक डा. रोहताश यादव का कार्यकाल पूरा हो रहा है। उससे पहले नए निदेशक की चयन प्रकि्रया पूरी हो जाएगी। उम्मीद की जा रही है कि इस माह के अंत तक इंटरव्यू होंगे। अगले माह के प्रथम सप्ताह में नाम जारी हाेने के कयास लगाए जा रहे हैं।

डा. लालड़ व एमजी वशिष्ठ की दावेदारी अहम

मिली जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि संस्थान से वैसै तो करीब 13 लोगों ने आवेदन किया है। दो चिकित्सक तो अभी सीनीयर प्रोफेसर का एक्सपीरियंस ही पूरा नहीं कर पाए हैं। वहीं दो के खिलाफ इंक्वायरी पेंडिंग हैं। जबकि दो की रिटायरमेंट अवधि में ही एक साल से कम समय है। ऐसे में कार्डियालाजी विभाग के अध्यक्ष डा. कुलदीप लालड़ व सर्जन डा. एमजी वशिष्ठ ही प्रमुख दावेदारों में शामिल हैं। डा. एमजी वशिष्ठ एमएस का पद भी संभाल चुके हैं।

विवादों में रहता है निदेशक का कार्यकाल

पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के निदेशक कार्यकाल पूरा करना बड़ी टेढी खीर है। अगर पिछले साल निदेशकों के कार्यकाल की बात की जाए तो सभी में कोई न कोई ऐसा मुद्दा हुआ है, जहां उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। डा. केबी गुप्ता, डा. राकेश गुप्ता व डा. एमसी गुप्ता का कार्यकाल कुछ इसी प्रकार का रहा। डा. केबी गुप्ता को ने इस्तीफा दिया। डा. राकेश गुप्ता से पूर्व मुख्यमंत्री हुकमसिंह की मौत मामले में इस्तीफा लिया गया। एमसी गुप्ता ने खुद इस्तीफा दिया व डा. रोहताश यादव बच्चा चोरी के मामले में चार्जशीट हुए।

Edited By: Naveen Dalal