जागरण संवाददाता, फतेहाबाद। स्वास्थ्य विभाग ने मान लिया था कि अब डेंगू की विदाई हो चुकी है। लेकिन पांच दिन बाद फिर एकाएक पांच नए केस आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी है। ऐसे में अब स्वास्थ्य विभाग फिर से सचेत हो गया है। जिले में 18 नवंबर को 18 केस मिले थे। उसके बाद एक भी केस नहीं आया था। लेकिन बुधवार को जब रिपोर्ट आई तो पांच लोग डेंगू पाजिटिव मिले है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने इन लोगों को ट्रेस कर वहां पर फोगिंग आदि करवा दी है। इसके अलावा आसपास के लोगों के सैंपल लिए जाएंगे।

973 हुई डेंगू मरीजों की संख्या

फतेहाबाद में अब डेंगू के मरीजों की संख्या 973 हो गई है। जिले में यह पहली बार ऐसा हुआ है जब डेंगू के रिकार्ड तोड़ मरीज मिले है। इससे पहले 2017 में 419 मरीज मिले थे। लेकिन उसके बाद ऐसा कभी नहीं था कि डेंगू के मरीज मिले है। इस बार डेंगू आशंकित चार मरीजों की मौत हुई है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने इसकी पुष्टि तक नहीं की है। लेकिन मरीजों के परिजनों का कहना है कि बुखार होने के बाद ही उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया और उनकी मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग अब डोर-टू-डोर जाकर सर्वे भी कर रहा है।

इन आंकड़ों पर डाले नजर

जिले में अब तक मिले मरीज : 973

बुधवार को मिल नए केस : 05

नोटिस जारी किया गया : 10

जिले में अब मरीज अस्पतालों में भर्ती हुए : 190

अस्पताल में भर्ती मरीज : 2

अब तक अस्पताल से डिस्चार्ज हुए : 188

स्वास्थ्य विभाग ने लिए अब तक सैंपल : 3956

अब जाने बुधवार को कितने जगह की जांच और कहां मिला लार्वा

कहां की जांच कितनी की                लार्वा मिला

घरों की जांच 1323 10

कूलर की जांच 252    00

पानी टैंक की जांच 894 02

पानी होदी की जांच 242 01

गमलों की जांच 1101 02

बाहर पड़े पानी की जांच  77 00

पिछले छह सालों में डेंगू व मलेरिया के ये मिले थे मरीज

वर्ष            डेंगू मरीज             मलेरिया मरीज

2015            189                           992

2016 38 368

2017 419 107

2018 56  02

2019 29 05

2020 35 04

2021 973 02 अब तक

नोट: चिकनगुनिया के अब तक 5 मरीज मिल चुके है।

डेंगू के क्या है लक्षण

-बार-बार बुखार आना।

-भूख न लगना और चक्कर आना।

-शरीर पर लाल रंग के निशान होना।

-उल्टी व दस्त आदि की शिकायत होना।

लापरवाही ना बरतें

फतेहाबाद के डिप्टी सिविल सर्जन डा. हनुमान सिंह बताते है कि करीब पांच दिन बाद जिले में डेंगू के नए केस मिले है। ऐसे में लोगों को अब लापरवाही नहीं बरतनी है। अगर दो दिनों के बाद बुखार नहीं उतर रहा है तो जांच करवानी चाहिए। अगर समय पर इलाज लेंगे तो डेंगू से बचा जा सकता है।

Edited By: Rajesh Kumar