अग्रोहा (हिसार), संवाद सहयोगी। हिसार के अग्रोहा में भोड़ा होशनाक सिद्धमुख नहर के पास अग्रोहा के खेतों में एक गली सड़ी अवस्था में काले बैग में बंद लाश बरामद हुई है। वहां खेत में काम कर रहे अग्रोहा निवासी राकेश ने जिसकी सूचना अग्रोहा पुलिस को दी। सूचना मिलते ही अग्रोहा थाना प्रभारी महेंद्र सिंह अपनी टीम के साथ मौके पर पंहुचे।

पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर शुरू की जांच

जाकर देखा तो वहां एक काले रंग का बैग पड़ा हुआ था जिसमें से असहनीय बदबू आ रही थी, जिसमें रखे शव के गलने सड़ने अथवा कुत्तों द्वारा नोचने के कारण हाथ पैर सहित शरीर के कुछ हिस्से गायब हो चुके थे। अग्रोहा थाना जांच अधिकारी एएसआई महेंद्र सिंह ने बताया कि शव को देखकर प्राथमिक दृष्टि से ऐसा प्रतीत होता है कि करीब दस से पंद्रह दिन पहले किसी ने हत्या कर शव को बैग में डालकर भोडा होशनाक सिद्धमुख नहर के पास अग्रोहा के खेतों में फैका है जो शव बुरी तरह से गल-सड़ चुका है। किसी ने हत्या कर शव को खुर्द-बुर्द करने की नियत से शव को फेंका है। शव काे अभी अग्रोहा मेडिकल मोर्चरी में पहचान के लिए रखवाया गया है। अग्रोहा थाना प्रभारी महेंद्र सिंह ने बताया कि अग्रोहा निवासी राकेश के बयान पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

इधर... सिरसा में बिजलीघर में संदिग्ध परिस्थितियों में कर्मचारी की मौत, कनपटी पर लगी है गोली

जागरण संवाददाता, सिरसा : नाथूसरी चौपटा थाना के गांव दड़बा के बिजलीघर में शिफ्ट अटेंडेंट वेद बैनीवाल की गोली लगने से मौत हुई है। मर्डर या सुसाइड के मामले की जांच में पुलिस जुटी है और एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाया गया है। पुलिस को शाम साढ़े 7 बजे के बाद बिजली कर्मचारी के गोली लगने की जानकारी मिली। जिसके बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची।

आरंभिक दृष्टि से पुलिस इसे सुसाइड मानकर चल रही है क्योंकि मौके पर कमरा बंद बताया गया और लाइसेंसी रिवाल्वर वहीं पड़ा है। बिजली कर्मचारियों ने ही इसकी सूचना एसडीओ के माफ्तZ पुलिस को दी है। बिजलीघर में शिफ्ट अटेंडेंट वेद बैनीवाल के चाचा भाल सिंह पर भी गत 27 जनवरी को गोली चलाई गई थी जिसमें राकेश उर्फ काला निवासी खैरमपुर जिला हिसार व उसके चार अन्य साथियों का नाम सामने आया था। इस मामले में वेद के घर पर गार्द लगाई गई थी।

27 जनवरी की सुबह वेद के चाचा पर भी हुआ था कातिलाना हमला

पुलिस के अनुसार 27 जनवरी 2022 को सुबह साढ़े 7 बजे भाल सिंह पर गोली चलाई गई थी। भाल सिंह के पुत्र पवन ने पुलिस शिकायत में बताया कि उसके माता-पिता तथा वह घर पर थे। पशुओं के बाड़े की तरफ से गोली चलने की आवाज आई तो बाहर आया तो राकेश उर्फ काला उसके पिता पर फायर कर रहा था। आवाज लगाई तो उस पर भी गोली चला दी। इसके बाद उसके भाई पर गोली चलाई गई। इसके बाद दोनों भाइयों ने दीवार फांदकर जान बचाई। आसपास के लोगों के आने के कारण भानजा राकेश व उसके साथ गाड़ी लेकर फरार हो गए।

वेद का इसी साल बनाया गया था शस्त्र लाइसेंस, घर पर थी गार्द

खतरे को देखते हुए वेद व उसके चाचा को पुलिस सुरक्षा मुहैया करवाई गई थी। वेद ने शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन किया था और इसी वर्ष पुलिस के खतरे की रिपोर्ट को देखते हुए लाइसेंस जारी किया गया था। घटनास्थल पर लाइसेंसी रिवाल्वर भी पड़ा हुआ मिला है। बताया जा रहा है कि वेद को रंजिश के कारण खतरा था लेकिन चौपटा के थाना प्रभारी उप निरीक्षक राजा राम का कहना है कि वेद की बजाय उसके चाचा को खतरा था और फायर भी उसी पर हुए थे।

बिजलीघर में कर्मचारी के गोली लगने की जानकारी आई। जिसके बाद पुलिस टीम मौके पर पहुंची है। वह ऐलनाबाद मीटिंग में हुए थे। एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाया गया है। मृतक की कनपटी पर एक गोली लगी हुई है। कमरा अंदर से बंद बताया गया है। आरंभिक दृष्टि से सुसाइड लग रहा है।- उपनिरीक्षक राजा राम, थाना प्रभारी नाथूसरी चौपटा

सिरसा एसपी के अनुसार

गोली लगने से बिजली कर्मचारी की मौत हुई है। सुसाइड है या मर्डर अभी कुछ भी कह पाना जल्दबाजी होगी। पूरे मामले की तहकीकात कर रहे हैं।

---डा. अर्पित जैन, एसपी, सिरसा।

Edited By: Naveen Dalal