जेएनएन, हिसार : सक्षम हरियाणा (शिक्षा) योजना की समीक्षा बैठक में उपायुक्त अशोक कुमार मीणा शिक्षा अधिकारियों की कार्यप्रणाली से नाखुश नजर आए। उन्होंने कहा कि शिक्षा अधिकारी जिस तरीके से काम कर रहे हैं उससे शिक्षा की गुणवत्ता और विद्यार्थियों की सीखने की क्षमता में बढ़ोतरी नहीं होगी, इसलिए सभी अधिकारी अपनी सहुलियत नहीं बल्कि बच्चों के व्यापक हित के मद्देनजर योजना बनाएं।

उपायुक्त कार्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान सीएमजीजीए राधिका सिंघल ने जिला के सभी खंडों के स्कूलों की प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि सक्षम योजना के तहत तीसरी, पाचवीं और सातवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों के लर्निंग लेवल में बढ़ोतरी की जाती है। खंड को सक्षम बनाने के लिए थर्ड पार्टी परीक्षा ली जाती है जिसमें 80 प्रतिशत परिणाम आना आवश्यक है। इस योजना के साकारात्मक परिणाम प्राप्त करने के लिए आगे से प्रत्येक सोमवार साप्ताहिक समीक्षा बैठक आयोजित की जाएगी जिसकी अध्यक्षता उपायुक्त करेंगे। उन्होंने बताया कि आदमपुर खंड की सक्षम योजना परीक्षा का परिणाम उम्मीद से कम रहा, जिसमें सुधार के

लिए शिक्षा अधिकारियों व शिक्षकों को और अधिक मेहनत करने की जरूरत है।

शिक्षकों के रेशनलाइजेशन के निर्देश दिए

उपायुक्त ने विद्यार्थियों के शिक्षा स्तर में सुधार के लिए विभाग द्वारा तैयार की गई कार्ययोजना की जानकारी मागी। शिक्षा अधिकारियों द्वारा बनाई गई योजना में उन्होंने और अधिक सुधार की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि सुधार की योजना इस प्रकार बनाई जाए जिसके साकारात्मक परिणाम भी प्राप्त हों। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रत्येक खंड के प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की उपलब्ध संख्या के आधार पर उनका रेशनलाइजेशन किया जाए और एक सप्ताह में उन्हें इसकी रिपोर्ट दें। उन्होंने हिंदी विषय में विद्यार्थियों की प्रगति को संतोषजनक बताया लेकिन गणित विषय में विद्यार्थियों के प्रदर्शन में सुधार के लिए शिक्षा अधिकारियों को अनेक हिदायतें दीं। गणित की पढ़ाई में अपनाएं इनोवेटिव तरीके

उपायुक्त ने कहा कि शिक्षक गणित विषय में विद्यार्थियों की रुचि पैदा करें और इनोवेटिव तरीके अपनाएं। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को विशेषज्ञों से प्रशिक्षण भी दिलवाया जाए और इसमें भी नए तरीकों से पढ़ाई के तरीके विकसित करें। उन्होंने कहा कि यदि बच्चों को गणित की पढ़ाई पसंद आ जाए तो वे इसमें उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल कर सकते हैं लेकिन यदि उनके कंसेप्ट क्लीयर न हों तो वे काफी पिछड़ भी सकते हैं। उन्होंने कहा कि सक्षम योजना के लिए करवाई जाने वाली परीक्षा के पेपरों के आधार पर सभी खंडों के विद्यार्थियों की तैयारी करवाएं ताकि वे पेपर का पैटर्न अच्छी प्रकार से समझ सकें। बच्चों को खुद बोर्ड पर सवाल हल करने के लिए भी प्रेरित किया जाए।

अग्रोहा व हासी खंडों की सक्षम परीक्षा 14 को

श्री मीणा ने कहा कि अग्रोहा व हासी खंडों के स्कूलों की सक्षम परीक्षा 14 सितंबर को होनी है। इन खंडों के स्कूलों के बच्चों की तैयारिया करवाने के लिए उन्होंने डाइट प्रधानाचार्या मिनी आहुजा को विशेष प्रशिक्षक अध्यापक नियुक्त करने के निर्देश दिए। इसके अलावा एसीयूटी स्वप्रिल पाटिल अग्रोहा तथा सीएमजीजीए राधिका सिंघल हासी खंडों के स्कूलों की तैयारियों का विशेष निरीक्षण करेंगी। उन्होंने बताया कि इसके पश्चात अक्तूबर माह में हिसार प्रथम व द्वितीय तथा आदमपुर खंड की सक्षम परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान, सहायक आयुक्त (प्रशिक्षणाधीन) स्वप्रिल पाटिल, डीईओ बलजीत सिंह, डीआईपीआरओ पारू लता, सीएमजीजीए राधिका सिंघल, डीईईओ देवेंद्र सिंह, डाइट प्रधानाचार्या मिनी आहुजा व सभी खंडों के शिक्षा अधिकारी भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस