रोहतक, जेएनएन। नौनंद गांव में बहन की हत्या के आरोपित को दोषी करार देते हुए अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरपी गोयल की कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। दोषी पर तीन हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

मामले के अनुसार, जून 2018 में नौंनद गांव की रहने वाली शीला के सिर पर बीयर की बोतल मारकर उसकी हत्या कर दी थी, जो बीमारी के चलते काफी समय से अपने मायके में रह रही थी। जांच पड़ताल के बाद इस मामले में पुलिस ने शीला के भाई मंगल को गिरफ्तार किया।

आरोप था कि शीला और मंगल के बीच बीमारी पर खर्च होने वाले रुपयों को लेकर कहासुनी हुई थी, जिसके बाद उसने हत्याकांड को अंजाम दिया। आरोपित ने उस पर केरोसिन भी छिड़क दिया था। उस वक्त मंगल की पत्नी सुनीता ने बयान दिया था कि उसके सामने झगड़ा हुआ और केरोसिन डाला गया था।

इसके बाद डर की वजह से वह पड़ोसी के घर जाकर छिप गई थी। यह मामला अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरपी गोयल की कोर्ट में विचाराधीन था। हालांकि ट्रॉयल के दौरान सुनीता अपने बयान से मुकर गई थी।

इन आधार पर सुनाई सजा

गवाह के बयान से मुकरने के बाद कोर्ट ने कई अन्य तथ्यों को देखते हुए सजा सुनाई है। आरोपित ने झगड़े के दौरान अपनी बहन को जान से मारने की धमकी दे रखी थी। इसके अलावा उसकी पत्नी ने केरोसिल डालते हुए देखा तो वह क्यों डाल रहा था। घर के अंदर शीला की हत्या हुई। यदि मंगल ने नहीं की तो फिर किसने की। आरोपित पक्ष यह साबित नहीं कर सका। जिसके बाद सजा सुनाई गई है। कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि भले ही गवाह मुकर गया हो, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि दोषी को उसके गुनाह की सजा न दी जाए।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: manoj kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस