सिरसा, जागरण संवाददाता। सिरसा में ऐलनाबाद उपचुनाव को लेकर इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने कहा कि आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हो कि किस तरह से मतदाताओं की खुली बोली लग रही थी। उसके बावजूद सरकार चुनाव हारी है तो मुख्यमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए। मार्जन कम नहीं है, मेरा मार्जन बहुत बड़ा था। अगर होर्स ट्रेडिंग नहीं होती तो मैं यह इलेक्शन 30 हजार वोटों से जीतता। यहां तो इतना करोड़ों रुपये बंटा है। इतना सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग हुआ है। यह सब मैने अपनी आंखों से देखा है। वे चौ. देवीलाल विश्वविद्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। 

सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग हुआ

अभय सिंह ने कहा कि यह मेरी जीत नहीं ये किसान की जीत है और मुख्यमंत्री में अगर नैतिकता है तो उसे इस्तीफा दे देना चाहिए। मुख्यमंत्री को तो उसी दिन इस्तीफा दे देना चाहिए था जिस दिन पैसे बांटने शुरू किए। सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग हुआ। बावजूद इसके लोगों ने उनकी तसल्ली बैठा दी। कांग्रेस और बीजेपी दोनों मिले हुए थे। पहले दिन से नहीं पिछले सात साल से मिले हुए हैं। सात सालों में कांग्रेस और भाजपा ने मिलकर इस हरियाणा प्रदेश को कमजोर करने की कोशिश की। ये नतीजा आपके सामने है, जिस कांग्रेस के 35 हजार वोट थे, वो जमानत नहीं बचा पा रही है। 

पुलिस ने पैसा बंटवाने का काम किया

अभय सिंह ने कहा कि सरकार ने बंटवाया है पैसा सारा का सारा। केंडिडेट पैसा थोड़े ही बांट सकता है। सरकारी मशीनरी में पैसा ले जा ले जाकर बांटा गया और पुलिस ने पैसा बंटवाने का काम किया। जगह जगह हमने 15 कंपलेंट्स इस किस्म की हमने दी है, इलेक्शन कमीशन को । इलेक्शन कमीशन ने भी कोई संज्ञान नहीं लिया। अगर संज्ञान लिया होता तो आज इनकी जमानत जब्त होती। उन्होंने कहा कि मार्जन आठ हजार से ज्यादा का रहेगा। मैं आठ हजार वोटों से जीतूंगा। लेकिन किस तरह से सरकार ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया। होर्स ट्रेनिंग की गई। पैसा बांटा गया। इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, किसी सीटिंग जज से जांच करवाई जाए ताकि आइंदा से सरकार नंगा नाच न कर सके।

ऐलनाबाद उपचुनाव में जीत के बाद अभय का बयान

उपचुनाव में जीत मिलने के बाद अभय चौटाला कहा कि किसान आंदोलन को लेकर दिया इस्तीफा था, वहीं उन्होंने कहा कि अब भी टिकरी बॉर्डर पर जाकर किसानों से बात करूंगा। अगर अब भी अगर किसान चाहेंगे तो फिर बड़ा फैसला ले सकता हूं। उन्होंने कहा कि हॉर्स ट्रेडिंग से चुनाव आयोग के निर्देशों की जमकर अवहेलना हुई है। हुड्डा से तो में पूछुंगा की उन्होंने गोपाल कांडा को अपना दोस्त बताया था। उन्होंने बीजेपी पर जातपात का जहर घोलने का आरोप लगाया। साथ ही कहा कि चुनाव आयोग से शिकायत के बावजूद कोई नहीं हुई। वहीं कहा कि कांग्रेस की जमानत जब्त हुई है।

Edited By: Naveen Dalal