जागरण संवाददाता, सिरसा। सिरसा फसल कटाई के सीजन में इन दिनों वैक्सीनेशन ड्राइव की गति धीमी हो गई है। सुबह सवेरे ही ग्रामीण खेतों में चले जाते हैं जिसके चलते गांवों में वैक्सीन लगाने के लिए जाने वाली टीमें निर्धारित टारगेट को पूरा नहीं कर पा रही है। अब स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर नई रणनीति तय की है। जिसके तहत अब स्वास्थ्य कर्मी सुबह ही घरों में पहुंचकर लाभार्थियों को टीके लगा रही है। इसके साथ ही खेतों में पहुंचकर भी एएनएम व आशा वर्कर टीकाकरण में जुटी हुई है। 

बड़ागुढ़ा खंड में डा. अश्वनी कुमार के मार्गदर्शन में एएनएम सुखविंद्र कौर, एमपीएचडब्लयू अनिल, गगनदीप व संतोष ने वैक्सीनेशन अभियान में अहम योगदान दिया। समाजसेवी संस्था से हरमीत गिल, जसविंद्र सिंह ने भी लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूक किया। 

जिले में दस लाख से अधिक को लगाई जा चुकी है वैक्सीन

जिले में अब तक दस लाख 13691 लोगों को वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी है। इनमें से सात लाख 64 हजार 877 लोगों को पहली डोज लग चुकी है जबकि दो लाख 48 हजार 814 लोगों को दोनों डोज लग चुकी है। जिले में 18 वर्ष से 44 वर्ष उम्र के चार लाख 35 हजार 837 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है जबकि 83 हजार 586 लोगों को दोनों डोज लग चुकी है। 45 से 60 वर्ष उम्र के लाभार्थियों में अब तक एक लाख 78 हजार 957 को पहली डोज लग चुकी है जबकि 73684 को दोनों डोज लग चुकी है। जिले में 60 वर्ष से अधिक उम्र के एक लाख 36 हजार 110 लोगों को पहली डोज लग चुकी है जबकि 78585 को दोनों डोज लग चुकी है। 

जिले में वैक्सीनेशन को लेकर टीमें लगी हुई है। फसल कटाई के सीजन में स्वास्थ्य विभाग की टीमें सुबह सवेरे घरों में पहुंचकर लाभार्थियों को वैक्सीन लगा रही है। फेस्टिवल सीजन में संक्रमण बढ़ सकता है ऐसे में जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगाई है, वे वैक्सीन डोज अवश्य लगवाएं। - डा. मनीष बंसल, सिविल सर्जन सिरसा

Edited By: Naveen Dalal