जागरण संवाददाता, हिसार : शहर में दूषित पेयजल सप्लाई का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। वर्तमान में मेयर आवासीय क्षेत्र में कई घरों और कामर्शियल संस्थान में पिछले करीब एक माह से दूषित पेयजल सप्लाई हो रहा है। स्थानीय अफसरों से शिकायतें कर थक चुके शहरवासी अब जनस्वास्थ्य विभाग के निदेशालय तक शिकायतें पहुंच रहे है। वर्तमान में दूषित पेयजल की समस्या की मुख्यालय में तेलियान पुल चौक के पास एक निजी अस्पताल के चिकित्सक रामप्रकाश छाबड़ा ने की है। बार बार जनस्वास्थ्य विभाग के अफसरों को शिकायत करने के बाद भी समस्या समाधान नहीं होने पर उन्होंने मुख्यालय में दूषित पेयजल समस्या समाधान के लिए गुहार लगाई है।

एक माह से आ रही समस्या, नहीं कर रहे समाधान

रामप्रकाश छाबड़ा ने कहा कि तेलियानपुल क्षेत्र में करीब एक माह से मेरे भवन में दूषित पेयजल सप्लाई हो रहा है। मैंने आसपास पता किया तो आसपास करीब आठ-दस भवनों में भी दूषित पेयजल सप्लाई हो रहा है। मैं कई बार जनस्वास्थ्य विभाग के अफसरों को शिकायत कर चुका हूं। लेकिन अभी तक समाधान नहीं हुआ। समस्या समाधान के लिए कई दिन पहले एक गड्ढा अवश्य खोदा था लेकिन उसे भी कई दिनों तक बंद किया वह भी समस्या बन गया था। उसे शुक्रवार को बंद किया गया है।

पार्षद भी मुख्यालय तक दूषित पेयजल समस्या की कर चुके शिकायत

जनता के अलावा शहर के जनप्रतिनिधि भी दूषित पेयजल से लेकर कई स्थानों पर पेयजल नहीं सप्लाई होने की शिकायत मुख्यालय तक को कर चुके है। पार्षद महेंद्र जुनेजा कहा कि जनस्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय में शिकायत के बाद कर्मचारी समस्या देखने तो आ जाते है लेकिन स्थाई समाधान आज तक नहीं कर पाए है।

वर्जन

दूषित पेयजल की समस्या शहर में कई जगह आती रहती है। मैं भी कई बार जनस्वास्थ्य विभाग के अफसरों को शहर में दूषित पेयजल सप्लाई और सीवरेज जाम की समस्या का स्थाई समाधान के लिए कह चुका हूं, लेकिन अभी भी शहर में कई स्थानों पर पेयजल से लेकर सीवरेज व्यवस्था तक की समस्याएं है।

-मनोहर लाल, चेयरमैन, सीवरेज, पेयजल व ड्रेनेज व्यवस्था सब कमेटी, नगर निगम हिसार।

Edited By: Jagran