हिसार, जेएनएन। नागरिक अस्पताल में करीब सात साल पहले लगाई गई लिफ्ट को फिर से चलाने की तैयारी है। सीएमओ ने लिफ्ट की रिपेयरिंग करवाने व दोबारा चलवाने के लिए पंचकूला मुख्यालय को लिखा था। मुख्यालय से अप्रूवल मिलने के बाद इसे ठीक करवाया जा रहा है। गौरतलब है कि नागरिक अस्पताल में सात साल पहले लिफ्ट लगाई गई थी। लेकिन सात साल बाद भी यह सुचारू रूप से नहीं चल पा रही। जबकि इसकी मरम्मत पर भी काफी पैसा खर्च किया जा चुका है।

वहीं इसे शुरुआत में कुछ दिन चलाया गया। लेकिन कोई ऑपरेटर ने मिलने के कारण लिफ्ट को सुचारू रूप से चलाया नहीं जा सका। इसमें तकनीकी खराबी भी आ गई थी। इस कारण यह लिफ्ट पिछले सात सालों से उपयोग में नहीं लाई गई। इसे एक-दो बार मुख्यालय के निर्देश मिलने के बाद शुरू किया गया था। दो साल पहले भी इसे कुछ दिन चलाया गया था लेकिन चार दिन चलने के बाद यह लिफ्ट फिर से बंद पड़ी है।

लिफ्ट में खराबी के कारण बंद की गई

अस्पताल प्रशासन के अनुसार लिफ्ट में कुछ तकनीकी खराबी है। जिसके चलते इसे चलाया नहीं जा रहा था। सिविल अस्पताल में पंचकूला मुख्यालय से मिले निर्देशों के बाद करीब सात साल पहले यह लिफ्ट अस्पताल में मरीजों की सुविधा के लिए यह लिफ्ट लगाई गई थी। जिसके लिए एक निजी कंपनी को लिफ्ट की मरम्मत का टेंडर दिया गया था। लेकिन इस लिफ्ट के न चलने के कारण इसका प्रयोग नहीं हो पा रहा है।

ऑपरेशन, सर्जिकल व आर्थो वार्ड के मरीजों को आ रही समस्या

सिविल अस्पताल में गर्भवती महिला वार्ड के गेट के सामने लगाई गई लिफ्ट को मुख्यत: सर्जिकल वार्ड व ऑर्थो वार्ड के लिए लगाया गया था। ऑर्थो के मरीजों को सीढियां चढऩे-उतरने में परेशानी होती है। जिसके चलते वो लिफ्ट से लाए व ले जाए जा सकते हैं। लेकिन लिफ्ट बंद होने के कारण मरीजों को इसका फायदा नहीं मिल पाया। अस्पताल में जच्चा-बच्चा वार्ड के ऊपर नए ऑपरेशन थियेटर का निर्माण किया गया था। इसके साथ नीकू वार्ड भी बनाया गया था। ऑपरेशन करने वाले मरीजों के लिए तथा नीकू में लाए जाने वाले नौनिहालों की माताओं के लिए भी लिफ्ट का उपयोग हो सकता है।

:::::::लिफ्ट ठीक करवाने के लिए उच्च अधिकारियों को लिखा गया था। वहां से अप्रूवल मिलने के बाद इसे ठीक करवाया जा रहा है। इंजीनियरों द्वारा इसमें खामियों को दूर करके चलाया जाएगा। वहीं ऑपरेटर की व्यवस्था भी की जाएगी।

-डा. संजय दहिया, सीएमओ, हिसार।

Edited By: Manoj Kumar