जागरण संवाददाता, हिसार : सरकारी विभागों में ग्रुप डी पदों पर नौकरी लगने के लिए परीक्षा देने आए दूसरे जिलों के परीक्षार्थी शनिवार को हिसार में ही फंस गए। प्रशासन की तरफ से की गई तैयारियां धरी की धरी रह गईं। कुछ परीक्षार्थियों को न तो बस मिली न ट्रेन। उन्हें रेलवे स्टेशन और बस अड्डे पर ही रात काटनी पड़ी। वहीं शाम को परीक्षा खत्म होने के बाद शहर पूरी तरह से जाम हो गया। जाम के कारण लोगों को कुछ दूरी तय करने में घंटों का समय लग गया। रविवार को भी ग्रुप डी की परीक्षा है। इसलिए शहरवासियों से दैनिक जागरण भी अपील करता है कि यदि जरूरी हो, तभी शहर में गाड़ी लेकर निकलें।

शहर में परीक्षा को लेकर 99 परीक्षा केंद्र थे। इसमें 25 हजार 740 परीक्षार्थियों ने परीक्षा देने आना था। काफी परीक्षार्थी नहीं पहुंचे। मगर शाम को पांच बजे जब परीक्षा खत्म हुई तो बस अड्डे और रेलवे स्टेशन पर पैर रखने की जगह नहीं थी। ट्रेनें और बस भरकर गई। लोग खिड़की पर लटके थे। बस की छत पर लोगों ने बैठकर सफर किया।

---

बॉक्स :::

जाम से एक घंटे में तय हुई एक किलोमीटर की दूरी परीक्षा के चलते शहर पूरी तरह से जाम हो गया। तलाकी गेट, डाबड़ा चौक पुल, निरंकारी भवन रोड, मटका चौक से कैंप चौक के बीच, पारिजात चौक, नागोरी गेट आदि चौक पर पूरी तरह से जाम रहा। लोग बाहर से निकलने लगे तो वहां भी जाम रहा। एक किलोमीटर का सफर तय करने में एक घंटे तक का समय लग गया। शाम के समय शहर में घूमने निकले ज्यादातर लोग भी जाम को देखकर वापस अपने घरों को लौटते दिखे।

---

बॉक्स :::

परीक्षा देने में आई परेशानी शहर के कई स्कूलों में परीक्षार्थियों को परेशानी हुई। इसमें परीक्षार्थी को दूसरी शीट दे दी गई। इसी प्रकार पुराने शहर में मौजूद एक सरकारी स्कूल में दिव्यांग की परीक्षा देने के लिए बैठे साथी की सही जांच नहीं होने के कुछ परीक्षार्थियों ने सवाल उठाए। परीक्षार्थियों का कहना है कि दिव्यांग को मदद करने आए राइटर की क्वालीफिकेशन काफी ज्यादा थी, जिससे उनको पूरी मदद मिली। बॉक्स :::

15 अतिरिक्त बसें चलाईं रोडवेज ने परीक्षार्थियों के लिए 15 अतिरिक्त बसें चलाईं। इसमें हजारों परीक्षार्थी अपने गंतव्य तक रवाना हुए। बसों में भीड़ के कारण परीक्षार्थियों को बसों की छत पर बैठकर भी सफर करना पड़ा। लोग सीट पर बैठने के लिए खिड़की से ही अंदर घुस गए। वहीं रोडवेज प्रशासन ने शनिवार को उमड़ी परीक्षाथियों की भीड़ से सबक लेते हुए रविवार को दोगुनी बसें चलाने और बसों के अतिरिक्त फेरे बढ़ाने की बात कही है, ताकि परीक्षार्थियों को परेशानी का सामना न करना पड़े।

---

बॉक्स :::

उपायुक्त ने की जांच उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने परीक्षा के निरीक्षण के लिए दोनों सत्रों में सीआर जाट महाविद्यालय, ¨जदल मॉडर्न स्कूल, प्रीसीडियम स्कूल व सेंट सोफिया स्कूलों पर बनाए गए परीक्षा केंद्रों का दौरा किया। उन्होंने परीक्षा केंद्रों के इंचार्ज से परीक्षार्थियों की संख्या व उनकी उपस्थिति की जानकारी लेते हुए उन्हें नकल रहित परीक्षाओं के संबंध में व्यापक दिशा-निर्देश दिए।

Posted By: Jagran