जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : धर्मशाला रोड से पानी निकासी न होने व जनस्वास्थ्य विभाग के जेई गिरीश पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद विभाग ने कड़ा कदम उठा लिया है। जेई को शहर व ग्रामीण क्षेत्र का चार्ज छीन लिया है। इसके अलावा एसडीओ ने जेई को चार्जशीट करने के लिए उच्चाधिकारियों को पत्र भेजकर अनुशंसा की है। वहीं इस स्थान से जलनिकासी के लिए रिचार्ज बोर का कार्य शुरू कर दिया है। जिससे यहां पर काम करने वाले दुकानदार भी शांत हो गए।

ज्ञात रहे कि नवंबर 2019 को नगरपरिषद ने जनस्वास्थ्य विभाग को 70 लाख रुपये दिए थे कि यहां पर पानी निकासी के लिए पाइप लाइन डाले। लेकिन जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने यहां पर पानी निकासी की पाइप लाइन डालने की बजाए यहां पर सीवरेज की लाइन डाल दी। अगले कुछ ही दिनों में कोरोना के कारण पूरे देश में लाकडाउन लग गया। बरसात आई तो यहां पर दो से तीन फुट तक पानी भर गया और एक युवक की पानी में डूबने से मौत भी हो गई। जिससे मामला बढ़ गया। दुकानदारों ने जांच करवाई तो पता चला कि इस लाइन को सीवरेज लाइन में ही जोड़ दिया था। जिसके बाद जनस्वास्थ्य विभाग के जेई गिरीश कुमार व अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था।

----------------------------------------

मंगलवार को दुकानदारों ने जेई का घेराव का दौड़ाया था

एक दिन पूर्व यानि मंगलवार को अरोड़वंश धर्मशाला रोड पर दुकानदारों ने जाम लगा दिया। इस मामले को सुलझाने के लिए जिला उपायुक्त ने जनस्वास्थ्य विभाग के जेई गिरीश कुमार व नगरपरिषद के एमई सुमित चौपड़ा को लोगों को समझाने के लिए भेजा था। जैसे ही जेई मौके पर पहुंचे तो लोगों ने घेराव कर लिया। जेई ने स्पष्ट तोर पर कहा था कि दिसंबर से पहले कोई समाधान नहीं हो सकता। जिससे लोगों का गुस्सा फूट गया और घेराव कर नारेबाजी की थी। जिस कारण जेई को मौके को भांपते हुए गाड़ी में बैठकर भागना पड़ा था।

--------------------------------------------------

गांव बड़ोपल में भी लगे थे भ्रष्टाचार का आरोप

जेई के खिलाफ केवल यहां पर ही भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे बल्कि गांव बड़ोपल में पेयजल लाइन में गड़बड़ी करने का आरोप लगा था। ग्रामीणों ने जेई के खिलाफ रोष भी जताया था। उस समय भी जेई ने यहीं था कि रुपये ऊपर तक जाते है। इस बात से लेकर जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी जेई से नराज चल रहे थे।

----------------------------------------

एक अधिकारी पर कार्रवाई कर शांत किया मामला

जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर पहले भी भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे है। केवल एक ही जेई पर कार्रवाई करना भी विभाग की एकतरफा कार्रवाई दिख रही है। धर्मशाला रोड पर रहने वाले दुकानदारों ने स्पष्ट कहा है कि इस मामले की जांच करवाई जाएगी। केवल जेई पर ही नहीं बल्कि इससे यहां पर गड़बड़ी करने वाले हर अधिकारी पर कार्रवाई होनी चाहिए। ऐसे में अगर जांच बैठती है तो उस समय के कार्यकारी अभियंता व एसडीओ पर भी कार्रवाई हो सकती है।

--------------------------------------

अरोड़वंश धर्मशाला रोड से अब पानी निकासी की यह होगी व्यवस्था

जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता का अतिरिक्त कार्यभार संभाल रहे अादर्श सिंगला व एसडीओ आशीष गर्ग ने अरोड़वंश धर्मशाला में मौजिज लेागों के साथ बैठक की। अधिकारियों ने कहा कि नगरपरिषद राजकीय कन्या वरिष्ठ स्कूल के सामने रिचार्ज बोर करवाने का कार्य शुरू कर दिया। इसके अलावा तुलसी चौक व अरोड़वंश धर्मशाला के पास रिचार्ज बोर करवाये जाएंगे। जिसका काम अगले 15 दिनों में पूरा हो जाएगा। वहीं जनस्वास्थ्य विभाग ने स्कूल में बनने वाले बुस्टिंग स्टेशन का टेंडर अलाट कर दिया है। गुरुग्राम की एजेंसी ने यह टेंडर लिया है। ऐसे में यहां पर काम शुरू हो जाएगा। अधिकारियों ने दावा किया है कि अगर आगामी 15 दिनों तक मौसम ठीक रहता है तो पानी निकासी की समस्या दूर कर दी जाएगी।

--------------------------------

नगरपरिषद बनाएगा फुटपाथ

नगरपरिषद ने 70 लाख रुपये की लागत से सीसी सड़क का निर्माण कर दिया है। लेकिन अब भी फुटपाथ का निर्माण होना बाकी है। सड़क के दोनों तरफ पानी भरने के कारण दुकानदार परेशान है। नगरपरिषद के अधिकारियों ने भी दुकानदारों के साथ बैठक कर कहा है कि जल्द ही फुटपाथ का निर्माण कर दिया जाएगा। नप की तरफ से इसका टेंडर खोल दिया गया है और एजेंसी को वर्क आर्डर दे दिया है। आगामी कुछ दिनों में यहां पर काम शुरू हो जाएगा।

------------------------------------

जेई गिरीश कुमार के खिलाफ लोगों की बहुत शिकायतें आई। इसी शिकायत के आधार पर शहर व ग्रामीण क्षेत्रों का चार्ज छीन लिया है। इसके अलावा चार्जशीट करने की अनुंशसा भी की गई है। अब उच्चाधिकारी ही फैसला लेंगे कि क्या कार्रवाई की जाती है। अब गिरीश को भट्टू खंड के कुछ ही गांवों का चार्ज दिया जाएगा जहां कोई विवाद न हो। नप की तरफ से रिचार्ज बोर करने का कार्य शुरू कर दिया है वहीं बुस्टिंग स्टेशन का टेंडर अलाट कर दिया गया है। अगर 15 दिन तक बरसात नहीं होती है तो पानी निकासी के प्रबंध कर लिए जाएंगे।

आशीष गर्ग, एसडीओ जनस्वास्थ्य विभाग फतेहाबाद।

Edited By: Manoj Kumar