जागरण संवाददाता, हिसार: हिसार में लघु सचिवालय में प्रदर्शन कर ज्ञापन देने के खिलाफ पुलिसकर्मियों से हाथापाई कर वर्दी फाड़ने, नेम प्लेट तोड़ने, मोबाइल छीनकर तोड़ने के आरोप में चार नामजद सहित 30 पर केस दर्ज किया है। मामले में सिविल लाइन थाना एसएचओ दलबीर सिंह के बयान पर केस दर्ज किया गया है। उन्होंने बयान में बताया कि वे मंगलवार को करीब 12 बजे संयुक्त मोर्चा के आहान पर किसानों द्वारा उपायुक्त को ज्ञापन देने के दौरान डयूटी पर थे। उस दौरान करीब 200 किसान लघु सचिवालय में मौजूद थे।

किसान उपायुक्त को ज्ञापन देने के लिए लघु सचिवालय के मुख्य द्वार पर पहुंचे तो वहां पर एकत्रित किसानों ने उनके साथ हाथापाई की, उनकी वर्दी फाड़ दी और मोबाइल भी छीनकर नीचे गिराकर तोड़ दिया। गौरतलब है कि मंगलवार दोपहर को 12 बजे के करीब संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर लघु सचिवालय के सामने सैंकड़ों की संख्या में किसान एकत्रित हुए थे। किसान उपायुक्त को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपने पहुंचे थे। मामले में संयुक्त किसान मोर्चा से किसानों का कहना है कि वे मंगलवार को खराब फसलों का मुआवजा देने की मांग, स्याहड़वा में कुंए में दबकर मरे किसानों के परिवारों को सहायता राशि देने और टयूबवैल कनेक्शन लगवाने की मांग लेकर उपायुक्त को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देने पहुंचे थे।

इसी दौरान लघु सचिवालय में उन्हें उपायुक्त के पास जाने से पुलिसकर्मियों द्वारा रोका जा रहा था। वहां एक पुलिसकर्मी ने उनसे अभद्र व्यवहार भी किया। किसानों का कहना है कि किसानों को वर्ष 2020 और 2021 का भी मुआवजा नहीं मिला, न ही गिरदावरी रिपोर्ट जारी की गई। लघु सचिवालय के बाहर खराब फसल के मुआवजों को लेकर पिछले कई महीनों से आंदोलन चल रहा है। प्रदर्शन के दौरान करीब 200 किसान एकत्रित रहे है। पुलिस ने अखिल भारतीय किसान नेता सूबे सिंह, किसान सभा व संयुक्त मोर्चा प्रधान शमशेर सिंह व किसान सभा जिला इकाई से रमेश सैनी, किसान सभा के जिला सेक्रेटरी सतबीर सिंह धायल सहित 30 अन्य पर केस दर्ज किया गया है।

Edited By: Manoj Kumar