भिवानी, जागरण संवाददाता। भिवानी के गांव मालवास कोहाड़ में बाइक पर सवार होकर घर से खेत में जा रहे एक युवक को कार ने टक्कर दे मारी। जिस कारण वह गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे परिवार के लोगों ने भिवानी के एक निजी अस्पताल पहुंचाया। वहां से उसे पीजीआइ रेफर दिया, लेकिन परिजन उसे शहर के ही अन्य एक निजी अस्पताल में ले गया। वहां पर बुधवार देर शाम को उसकी मौत हो गई। जुई कलां थाना पुलिस ने युवक के शव का सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम करवा कर स्वजनों के हवाले कर दिया। पुलिस ने मामला दर्ज कर फरार कार चालक की तलाश शुरू कर दी है।

अपने पिता का इकलौता बेटा था युवक सुनील

गांव मालवास कोहाड़ निवासी मोनिका ने पुलिस को दिए गए बयान में बताया कि वह दो बहन भाई हैं। उसका बड़ा भाई सुनील हैं। मां प्रोमिला घरेलू कार्य ही करती है। सुनील बुधवार को बाइक पर सवार होकर अपने खेत में जा रहा  था। उसने बताया कि गांव से एक किलोमीटर दूर पहुंचा था। इसी दौरान तेज गति से आ रही एक कार ने उसके भाई सुनील की बाइक में टक्कर दे मारी। सुनील बाइक से दूर जा गिरा।

सूचना मिलते ही सुनील का चाचा रमेश मौके पर पहुंचा। उसे साधन कर गंभीर हालत में भिवानी के एक निजी अस्पताल लेकर आया। वहां पर प्राथमिक उपचार के बाद उसे पीजीआइ रेफर कर दिया। इसके बाद वह शहर के ही दूसरे एक निजी अस्पताल में ले गया। वहां पर रात को उसकी मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही जुई कलां थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने मामले की छानबीन की। पुलिस ने युवक के शव का सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाया। पुलिस ने मोनिका की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है। 

पिता बना हुआ बाबा तो अपने मां-बाप का इकलौता बेटा था सुनील

मोनिका ने बताया कि उसका पिता जगबीर सात-आठ माह पहले बाबा बन गया था। वह पता नहीं कहां रहता है। उसने बताया कि परिवार में वह खुद, उसकी मां व भाई सुनील था। खेतीबाड़ी कर किसी तरह परिवार का गुजारा कर रहे थे, लेकिन इस हादसे ने सब कुछ बर्बाद कर दिया। मां-बाप, बहन के सहारे को छिन लिया। मोनिका कहना कि राखी बंधवाने के लिए अब उसका भाई तक नहीं रहा है। पूरे परिवार पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा है।

Edited By: Naveen Dalal