जागरण संवाददाता, हिसार: गांव मसूदपुर निवासी अंकित दलाल भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग अफसर के पद पर कमीशंड हुए हैं। उन्हें शनिवार को हैदराबाद स्थित आफीसर्स ट्रेनिग अकादमी में पासिग आउट परेड के बाद पहली पोस्टिग मिली है। अंकित का चयन इससे पहले कोस्ट गार्ड के रूप में हुआ था। मगर विग कमांडर अभिनंदन से प्रेरित होने के बाद उन्होंने वायु सेना में जाने की ठान ली थी। इसी के तहत कुछ समय पहले उनका चयन वायु सेना में फ्लाइंग अफसर के पद पर हुआ था, तब से उनकी ट्रेनिग चल रही थी। अंकित का घर विद्युत नगर में स्थित है। उनके पिता दलजीत सिंह बिजली बोर्ड में वाहन चालक हैं और मां रामवती आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं। अंकित ने ओपी जिदल मार्डन स्कूल ने 12वीं उत्तीर्ण की। इसके बाद गुरु जंभेश्वर तकनीकि एवं अभियांत्रिकी विश्वविद्यालय से बीटेक करने के बाद वह सेना में जाने की तैयारी करने लगे थे। उनकी सफलता पर परिजनों ने हर्ष व्यक्त करते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

तीसरी पीढ़ी के रूप में अर्चिसा करेंगी देश सेवा

हिसार की बड़ी सातरोड कलां निवासी अर्चिसा पूनिया भी वायु सेना में कमीशंड हुई हैं। वह वायु सेना के टेक्निकल ब्रांच में एयरोनाटिक्स इंजीनियरिग के क्षेत्र में काम करेंगी। अर्चिसा की पासिग आउट परेड बेंगलुरु से हुई है। खास बात है कि अर्चिसा के दादा महाबीर पूनिया सेना में सूबेदार पद से सेवानिवृत्त हुए, पिता गिरिराज सिंह पूनिया एयरफोर्स में विग कमांडर रहे हैं तो चाचा राकेश पूनिया सेना में कर्नल पद पर देशसेवा कर रहे हैं। अब अर्चिसा तीसरी पीढ़ी है जो सेना में देश सेवा करेंगी। अर्चिसा की पढ़ाई केंट स्कूल से हुई है। उच्च शिक्षा के लिए वह नागपुर चली गईं। यहां उन्होंने बीटेक किया। इसके साथ ही वह लान टेनिस, पर्वतारोही के क्षेत्र में भी महारथ हासिल कर चुकी हैं।

Edited By: Jagran