जागरण संवाददाता, हिसार। मय्यड़ गांव में पुराने की जगह नए बिजली के खंभे लगाते समय एक युवक पर बिजली का खंभा गिर पड़ा। इस हादसे में बिजली कर्मी 25 वर्षीय मंजीत की छाती, सिर व हाथ-पैर पर गहरी चोट लगी, जिस कारण युवक ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इस मामले में मृतक के पिता के बयान पर ठेकेदार अमरजीत के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया गया है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि ठेकेदार ने मंजीत को बचाव के लिए सुरक्षा से संबंधित कुछ भी उपकरण नहीं दिए। संसाधनों के अभाव में बिजली कर्मी ने अपनी जान गवां दी।

पुलिस को दी शिकायत में दिलबाग ने बताया कि मय्यड़ गांव में बिजली निगम का पिछले कुछ दिनों से नए बिजली के खंभे लगाने का काम चल रहा है। पुराने खंभे उखाड़ जा रहे है। मंगलवार सुबह मंजीत भी खंभे लगवाने के लिए काम पर गया हुआ था। उस दौरान पुराना खंभा उखाड़कर ट्रैक्टर से नया खंभा लगवा जा रहा था।

वह खंभा टूट गया और मंजीत पर गिर गया।वहां पर तीन कर्मी और काम कर रहे थे। इसके बाद मंंजीत को शहर के निजी अस्पताल में पहुंचाया गया। वहां पर बुधवार देर रात को उसने दम तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस ने शव काे कब्जे में लेकर सिविल अस्पताल में पहुंचाया, जहां से पोस्टमार्टम करवाकर स्वजनों काे सौंप दिया।

कोई सूचना नहीं दी

मृतक के परिजनों का आरोप है कि उनको कोई सूचना नहीं दी गई। जब दोपहर तक मंजीत घर नहीं आया तो उन्होंने उसके फोन पर किया, पर किसी ने नहीं उठाया। बाद में पता चला कि हादसा हो गया और मंजीत को चोट लगी है। इसके बाद वह अस्पताल में पहुंचे। ठेकेदार ने भी कोई सुध नहीं ली।

यह जरूरी

एक्सपर्ट की राय के अनुसार बिजली मरम्मत का काम करते समय सुरक्षा किट उपलब्ध करवाना जरूरी है। जैसे कि ग्लब्स, सीट बेल्ट, हेलमेट व सुरक्षा किट आदि। वरना बिजली करंट या अन्य हादसे की आशंका होती है।

Edited By: Manoj Kumar