भिवानी, जागरण संवादाता। भिवानी में हरियाणवी खीर चूरमा से लेकर देशी रायता और दूसरे लजीज व्यंजन खिलाड़ियों का जायका बढ़ाएंगे। मिनी क्यूबा में भिवानी में 18 से 20 सितंबर तक होने वाली खेल महाकुंभ रूपी आल इंडिया सिविल सर्विसेज कबड्डी प्रतियोगिता दूसरे प्रदेशों से आने वाले खिलाड़ियों को जायकेदार हरियाणवी लजीज व्यंजन परोसने के लिए होटल संचालक तैयारी में जुटे हैं। खेल विभाग की तरफ से भले ही इस तरह की तैयारी नहीं है पर इतना बड़ा आयोजन हो रहा है तो यहां के होटल संचालक, गेस्ट हाउस आदि इस अवसर पर मेहमानबाजी में पीछे नहीं हना चाहते।

मिनी क्यूबा की मेहमानबाजी में जैसी पहचान है उसे और बेहतर बनाने के लिए वे तैयारी में जुटे हैं। इस आयोजन में 15 से 20 प्रदेशों के खिलाड़ी यहां आने वाले हैं। इससे पहले भी छोटी कांशी में जब वर्ष 2008-09, 2013-14 और वर्ष 2016-17 में यह प्रतियोगिता हुई थी तो प्रदेशी खिलाड़ियों की मनपसंद के अलावा हरियाणवी व्यंजन उनकी पसंद बने थे।

मेहमानबाजी मिनी क्यूबा की है पहचान

गेस्ट हाउस संचालक अनूप बंसल ने बताया कि देश भर से आने वाले खिलाड़ी हमारे मेहमान पहले हैं। मिनी क्यूबा हमेशा से ही मेहमानबाजी में अग्रणी रहता है। दूसरे प्रदेशों के खिलाड़ियों की जैसी पसंद होगी वैसा ही भोजन दिया जाएगा। इसके अलावा हरियाणवी व्यंजन जिनमें खीर चूरमा, हलवा, देशी रायता आदि की दुनिया में विशेष पहचान है वह भी डिमांड अनुसार परोसा जाएगा। हमारा प्रयास है कि सस्ता और जायकेदार भोजन दिया जाए।

यहां सार्थक होगी देशां में देश हरियाणा जहां दूध दही का खाणा वाली कहावत

गेस्ट हाउस संचालक प्रदीप कुमार ने बताया कि कहावत भी है देशां में देश हरियाणा जहां दूध दही का खाणा। आल इंडिया सिविल सर्विसेज कबड्डी प्रतियोगिता भिवानी में हो रही है तो हम खिलाड़ियों के लिए दूध दही से बने व्यंजन जरूर परोसेंगे। इसके अलावा खिलाने का अंदाज भी देशी होगा। जब दूसरे प्रदेशों से खिलाड़ी यहां आएंगे तो वे भिवानी और हरियाणा की विशेष पहचान लेकर जाएं।

मेहमानबाजी में भिवानी हमेशा अग्रणी रहा है 

डिप्टी डायरेक्टर एवं नोडल आफिसर राममेहर सिंह ने बताया कि मिनी क्यूबा भिवानी खेलों का हब है। यहां पर आल इंडिया सिविल सर्विसेज कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन पहले भी हो चुका है। उस समय भी हमारे खेल प्रशिक्षकों के अलावा शहर वासियों ने भी दूसरे प्रदेशों से आने वाले खिलाड़ियों का दिल खोल कर स्वागत किया है। हरियाणवी व्यंजन तो वैसे भी हमेशा से मन को भाने वाले रहे हैँ।

Edited By: Naveen Dalal