हिसार, जेएनएन। पानीपत फिल्म को लेकर हिसार में विरोध तेज होने के बाद अलर्ट जारी कर दिया गया है। सिनेमा घरों के बाहर पीसीआर की तैनाती कर दी गई है। इसके अलावा खुफिया तंत्र को भी मुस्तैद कर दिया गया है। इसके अलावा हर संदिग्ध पर नजर रखी जा रही है। बुधवार को फिल्‍म के विरोध में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के सदस्‍यों ने जाट धर्मशाला में बैठक की।

बैठक में जाट नेता रामभगत मलिक ने कहा कि फिल्‍म में पानीपत फिल्म में महाराजा सूरजमल के चरित्र को गलत तरीके से दिखाया गया है। इसलिए इस फिल्‍म को हिसार में नहीं चलने देंगे। इसके बाद जाट कॉलेज के युवा छात्र भी फिल्‍म के विरोध में उतर आए और मिराज सिनेमा के सामने धरना देने की घोषणा की। सिनेमा के बाहर पुलिस तैनात है ऐसे में तनाव की स्थित‍ि बनना तय है। वहीं सनसिटी सिनेमा में फिल्‍म नहीं दिखाई जा रही है। फिल्‍म नहीं लगाए जाने को लेकर बाहर नोटिस भी चस्‍पा किया हुआ है।

कालीरामणा खाप ने भी फिल्‍म का जमकर विरोध किया है। नारनौंद के बुढ़ाना गांव के काफी युवा हरिकेश ढांडा के नेतृत्व में नारनौंद थाने में पहुंचे थे और नारेबाजी कर फिल्म के डायरेक्टर व लेखक के खिलाफ थाने में शिकायत दी थी। पुलिस इस मामले में कानूनी राय लेने में जुटी हुई है। अभी पुलिस ने इस मामले में कोई केस दर्ज नहीं किया है।

वहीं अब इस मामले में काजला खाप भी खुलकर सामने आ गई है। फिल्म पानीपत में महाराजा सूरजमल के किरदार को गलत व आधारहीन चित्रण करने पर राष्ट्रीय काजला खाप ने फिल्म के निर्माता आशुतोष गोवारीकर के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का केस दर्ज करवाने के लिए केंद्र व राज्य सरकार से मांग की है। खाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजमल काजल व संरक्षक धर्मवीर काजला ने कहा कि महाराजा सूरजमल एक आदर्श शासक थे, जिनमें राष्ट्रीयता की भावना कूट-कूट कर भरी हुई थी। ऐसे देशभक्त और समाजसेवी योद्धा के खिलाफ समाज व देश में नफरत फैलाने वाले फिल्म निर्माता के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का केस सही कानूनी दायरे में आता है। काजला खाप ने फिल्म पर तुरंत रोक लगाने की मांग भी की।

---फिल्म को लेकर पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी है। हिसार भी इससे अछूता नहीं है। पुलिस की गश्त बढ़ा दी है।

- शिवचरण, एसपी, हिसार

नारेबाजी कर डीसी को सौंपा ज्ञापन

जाट समाज हिसार की तरफ से पानीपत मूवी को बंद करवाने को लेकर डीसी अशोक कुमार मीणा को ज्ञापन दिया और नारेबाजी की गई। इस मौके पर तुषार गोयत ने बताया कि पानीपत मूवी में महाराजा सूरजमल का जो किरदार दिखाया गया वो असल इतिहास से भिन्न है। इस मूवी में जाट समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचाई गई है अगर जल्द इस मूवी के प्रसारण पर रोक नहीं लगाई गई तो समस्त जाट समाज रोड पर उतर कर प्रदर्शन करेगा और धरना देगा।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस