हिसार, जेएनएन। हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय 26 वर्ष बाद बड़े स्तर पर अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस आयोजित करने जा रहा है। 6 से 8 नवंबर तक आयोजित होने वाली इस कांफ्रेंस की तैयारियां पिछले तीन महीनों से विश्वविद्यालय द्वारा की जा रही थीं, अब इसका शेड्यूल से लेकर अन्य कार्यक्रम तय कर दिए गए हैं।

इस कार्यक्रम को आयोजित कराने के लिए 11 विदेशी शिक्षण संस्थान एचएयू के पार्टनर बने हैं तो आइसीएआर, नाबार्ड, भारत मौसम विज्ञान विभाग सहित अन्य राष्ट्रीय स्तर के संस्थान भी इस कांफ्रेंस में सहभागिता दर्ज कराएंगे। कांफ्रेंस का विषय कृषि तकनीकों के भविष्य और वर्तमान स्थितियां रहेंगी। एक्सपर्ट को अपने रिसर्च पेपर जमा करने के लिए एचएयू ने गुरुवार तक का समय दिया गया था।

इन विषयों पर बोलने के लिए देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी प्रमुख विशेषज्ञों का चुनाव हुआ है। जिसमें कनाडा, इजराइल, यूएसए, आस्ट्रेलिया, पोलेंड, थाईलैंड, ब्राजील सहित अन्य देशों के 15 एक्सपर्ट अपने रिसर्च के लंबे अनुभवों की जानकारी विषय पर साझा करेंगे।

ये हैं 15 एक्सपर्ट जो साझा करेंगे कृषि से संबंधित नवीन जानकारियां 

- डा. सी. सवेंटन, कनाडा

- डा. रुबिन बरूच, इजराइल

- डा. बाऊशान जिग, यूएसए

- डा. ओपी धनखड़, यूएसए

- डा. जेसन वाइट, यूएसए

- डा. फिलिप्स ब्राउन, ऑस्ट्रेलिया

- डा. विजय सिंह, यूएसए

- डा. डी मिंज, इजराइल

- डा. कारमेन एन बाईसी, यूएसए

- डा. कामिला एफ पिन्हो, ब्राजील

-डा. चान्या, थाईलैंड

- डा. डो सून, साउथ कोरिया

- डा. एडवर्ड, पोलैंड

- डा. आरएस परोदा, भारत

- डा. एच बरिआना, आस्ट्रेलिया

कांफ्रेंस में ये रहेंगे विषय

- नॉवल ट्रेंडस इन एग्रीकल्चर एंड एप्लाइड बायोसाइंसेज

- एप्लीकेशन इन बेसिक एंड नेचुरल साइंसेज इन न्यू मिलेनिया एग्रीकल्चर

- फ्यूचरइस्टीक एपरोचिज इन एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग एंड मकेनाइजेशन

- कॉम्युनिटी साइंस: न्यू चेलेंजेज एंड ओर्पोचुनिटीज

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस