संवाद सहयोगी, हांसी : बुधवार सुबह तेज बारिश होने से खुले आसमान के नीचे पड़ी लाखों क्विंटल गेहूं भीग गया। बरसाती पानी में मंडी में कई जगह गेहूं पानी में तैरता हुई दिखा। बरसात के कारण करीब तीन लाख क्विंटल गेहूं के भीगने से हुए नुकसान के लिए व्यापारी व किसान खरीद एजेंसी के अधिकारियों को जिम्मेदार मान रहे हैं।

व्यापारियों का कहना है कि 7 मई से लाखों क्विंटल गेहूं की खरीद हुई मगर खरीद एजेंसियों ने बारदाना उपलब्ध नहीं करवाया इसके कारण दो दिन हुई बरसात से उन्हें भारी आर्थिक नुकसान हो रहा है। मौसम विभाग द्वारा भारी बरसात होने की चेतावनी के बाद व्यापारी व किसान अलर्ट थे। सोमवार पूरी रात व्यापारियों ने खुले ढेर में पड़ी गेहूं की फसल को ढकने के लिए कई तामझाम भी किए लेकिन बुधवार सुबह हुई तेज बरसात ने मंडी में पड़ा गेहूं पूरी तरह पानी से लबालब कर दिया। बरसात के बाद बुधवार पूरा दिन व्यापारियों ने मजदूरों को पानी निकालने और गेहूं को सुखाने के लिए लगा दिया। पूरा दिन बोरियों में भरी गेहूं के उठान होने तक स्टैग लगाने का कार्य जारी रहा।

इस बीच खरीद एजेंसियों ने बरसात के बाद गीली गेहूं को गोदामों में स्टोरेज करने से इन्कार कर दिया है। अधिकारियों का कहना है कि बरसात के कारण गेहूं में नमी की मात्रा नियमों के मुताबिक दुगनी हो गई है और ऐसे में गोदामों में गेहूं को स्टोरेज नहीं किया जा सकता। बरसात के बाद अनाज मंडी में करीब तीन लाख क्विंटल गेहूं की हो रही बेकद्री और खरीद एजेंसी हैफेड व फूड सप्लाई के अधिकारियों पर बारदाना उपलब्ध न करवाने के आरोप लगाते हुए अनाज मंडी एसोसिएशन के प्रधान रामअवतार तायल व सर्व व्यापार मंडल के प्रधान बजरंग दास बंसल ने हैफेड के डीएम व अन्य अधिकारियों को लिखित शिकायत भेजकर जल्द से जल्द मंडी में बारदाने की व्यवस्था करवाने की मांग की है। एसोसिएशन का कहना है कि मौसम खराब होने के कारण जल्द ही गेहूं का उठान नहीं करवाया गया तो व्यापारी व किसान आर्थिक रूप से बर्बाद हो जाएंगे। करीब 30 हजार क्विंटल गेहूं को अभी भी है खरीद का इंतजार

गेहूं की सरकारी खरीद हर वर्ष 15 मई तक होती थी लेकिन इस बार बंपर पैदावार होने के चलते सरकार की ओर से खरीद कार्य बंद होने के कोई आदेश अभी तक जारी नहीं हुए हैं। मंडी में करीब 30 हजार क्विंटल गेहूं बिना सरकारी खरीद के पड़ी है और खरीद एजेंसी गुरुवार तक पेंडिग गेहूं की खरीद का कार्य पूरा कर लेगी। मंडी में अब तक 12 लाख 37 हजार 630 क्विंटल गेहूं की सरकारी रिकार्ड के अनुसार खरीद की गई है जबकि पिछले वर्ष 11 लाख 88 हजार 995 क्विंटल गेहूं की खरीद हुई थी। इस वर्ष बुधवार तक करीब 71 हजार क्विंटल गेहूं की ज्यादा खरीद हुई है और ये आंकड़ा एक लाख क्विटल से ऊपर जा सकता है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस