बहल, भिवानी, जेएनएन। अगर आपको कोई सरकारी नौकरी लगवाने का लालच देकर रुपये मांगता है तो सतर्क हो जाइए। आपके पैसे डूब सकते हैं। ऐसा ही मामला भिवानी में सामने आया है। पुलिस में नौकरी का झांसा देकर गांव पाजू के चार लोगों से 20 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। पुलिस अधीक्षक के आदेश पर बहल पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी और जालसाजी के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एसपी को दी शिकायत में पाजू निवासी दलीप, पवन, राजपाल और राकेश ने बताया कि वे सभी गांव हालुवास स्थित एक आश्रम में जाते थे। वहां पर चरखी दादरी निवासी सतीश, सिलोचना, अरूण कुमार भी आते थे।

उन्होंने कहा कि उनकी पहुंच उपर तक है और सतीश एफसीआइ का सदस्य है। अगर नौकरी से संबंधित काम हो तो अवश्य बता देना। इस पर उन्होंने सतीश को बताया कि हमारे तीनों के लड़के और राकेश के भांजे ने हरियाणा पुलिस के फार्म भरवा रखे हैं। उनकी नौकरी लगवाने के नाम पर उक्त लोगों ने 20 लाख रुपये ले लिए। इसके बाद हमारे बच्चों की रोल नम्बर स्लिप की फोटो कॉपी ली और आश्वस्त किया कि उनका काम हो जाएगा। इसके बाद जब पुलिस भर्ती का परिणाम आया तो उनके बच्चों का सलेक्शन नहीं हुआ।

आरोपित को फोन किया तो उसने बताया कि साहब बीमार हो गए थे इसलिए आपका काम नहीं हुआ। अब वह उनकी 20 लाख रुपये की रकम वापिस कर देगा। इसके बाद उन्होंने आश्रम के बाबा केशवनाथ को सारी बातों से अवगत कराया तो बाबाजी ने सतीश को फोन किया तो सतीश ने पैसे वापिस देने की बात कही। जब कुछ दिन बीत गए तो उन्होंने सतीश को पैसों के लिए कहा तो उसने 10 लाख रुपये का एक और 5-5 लाख रुपये के दो चेक दे दिए। लेकिन विश्वास में लेकर सतीश ने उनको चेक नहीं लगाने दिए और जब समय पूरा हो गया तो उन्होंने फिर से पैसे मांगे तो 5 लाख रुपयेे के चार चेक फिर से दे दिए।

जब उन लोगों ने सतीश को फोन किया तो उन्होंने धमकी देते हुए कहा कि वह पैसे नहीं देगा और फिर से उनके पास फोन किया तो वह झूठे मुकदमें में फंसा देगा। इस पर हमने एसपी भिवानी को शिकायत दी है। जांच अधिकारी एएसआइ यशवंत ङ्क्षसह ने बताया कि पुलिस ने पवन कुमार के बयान पर सतीश कुमार, सिलोचना और अरुण कुमार के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस