रामलीला पर रार :

-मेले को मुख्यालय से जारी अनुमति, जिला स्तर पर रामलीला मंचन को इंतजार

जागरण संवाददाता, हिसार : शहर में मेले को तो अनुमति दे दी गई, लेकिन शहर की रामलीला मंचन के लिए धार्मिक व सामाजिक कार्य करने वाली संस्थाओं को अनुमति का आज तक इंतजार करना पड़ रहा है। विडंबना देखिए शहर की एतिहासिक श्री रामलीला कमेटी कटला 16 दिन में भी रामलीला मंचन के लिए अनुमति नहीं ले पाई है। अब रामलीला में एक ओर नया मोड आ गया है। श्री ब्रदी केदार रामलीला को भी अनुमति का इंतजार है। जबकि मात्र 15 दिन रामलीला मंचन को लेकर शेष रह गए है। ऐसे में कमेटी व समिति के पदाधिकारियों में मंचन की अनुमति को लेकर चिता बढ़ती जा रही है।

16 दिन में भी प्रशासन से मंचन की नहीं मिली अनुमति

शहर की ऐतिहासिक रामलीला से लोगों की धार्मिक आस्थाएं जुड़ी हुई है। कटला कमेटी की ओर से छह सितंबर को उपायुक्त को पत्र भेजकर अनुमति मांगी गई थी। लेकिन अनुमति पर ही रार शुरु हो गए है। शहर के हिदू संगठन जहां रामलीला मंचन को लेकर प्रतिदिन विचार विमर्श कर रहे है वहीं अब भी तक अनुमति नहीं मिलने से मंचन पर भी संशय पैदा हो गया है। उधर शहरवासी भी अब मेले की अनुमति का सच जानने में जुट गए है। सूत्रों की माने तो अनुमति को लेकर जिला प्रशासन के पास शिकायत तक पहुंच रही है।

श्री बद्री केदार रामलीला ने विद्युत नगर में मंचन को मांगी अनुमति

श्री बद्री-केदार रामलीला समिति विद्युत नगर सभा के पदाधिकारी ने आमसभा की बैठक की। बैठक में कार्यकारिणी सदस्यों ने रामलीला का सात अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक मंचन करवाने का फैसला लिया। इसके लिए उन्होंने एसडीएम को मंचन की अनुमति के लिए पत्र भेजा हुआ है। हालांकि अभी तक उन्हें भी तक रामलीला मंचन की अनुमति नहीं मिली है। वे भी प्रशासन की ओर से मिलने वाली हरी झंड़ी का इंतजार कर रहे है। विद्युत नगर में आयोजित हुई बैठक में कार्यकारिणी सदस्य पंडित बीपीजोशी, चेयरमैन ज्ञान सिंह रावत, प्रधान पीताम्बर दत्त पाण्डेय, महासचिव गजेंद्र गुसाईं, कोषाध्यक्ष अनुसूइया प्रसाद, निरीक्षक ओंकार पटवाल, मंच-संचालक हीरो सिंह रावत, अनिल भट्ट, महेंद्र बडोला, उमेद बोहरा, उपेंद्र शर्मा, हर्षवर्धन जोशी, हरीश भट्ट, नरेंद्र रावत, नवीन नेगी, अनिल नेगी, नवनीत जोशी, प्रेम रावत, मुकेश रावत, नवीन बडोला, किशोर रौतेला, दीपक जोशी, कल्पेश्वर जोशी, पूर्ण सिंह मौजूद रहे।

वर्जन

अभी तक श्रीरामलीला कमेटी कटला को पुरान गवर्नमेंट कालेज मैदान में रामलीला करवाने की अनुमति नहीं मिली है। प्रशासन से अनुमति मिलने का इंतजार है। मैं तो हैरान हूं कि प्रशासन ने मेले की अनुमति कैसे दे दी। जबकि मेले में तो इतनी भीड़ है । वहां तो कोविड-19 की पालना नजर नहीं आ रही है। प्रशासन से इस बारे में जानकारी ली जाएगी कि मेले को आखिरकार अनुमति किस नियम के तहत मिली।

- कृष्ण कुमार लोहिया, महासचिव, श्रीरामलीला कमेटी कटला, हिसार।

Edited By: Jagran