रोहतक, जेएनएन। सुनारिया रोड स्थित मानव रचना ग्लोबल स्कूल में फुटबाल गोलपोस्‍ट का पोल गिरने के कारण आठवीं के छात्र की मौत हो गई। स्कूल प्रबंधन उसे पीजीआइ के ट्रामा सेंटर में लेकर पहुंचा, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि स्कूल प्रबंधन की लापरवाही के कारण छात्र की मौत हुई है। शिवाजी कालोनी थाना पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है।

मूलरूप से दत्तौड़ गांव का रहने वाला कुलदीप बीएसएफ में कार्यरत है, जिसका परिवार रोहतक की न्यू विजय नगर कालोनी में रहता है। उसका 13 वर्षीय बेटा निखिल आठवीं क्लास और छोटी बेटी छठीं क्लास की छात्रा है। दोनों बच्चे मानव रचना ग्लोबल स्कूल में पढ़ते हैं। बुधवार सुबह कुलदीप की पत्नी कविता ने दोनों को तैयार कर स्कूल में भेज दिया। दोपहर करीब 12 बजे सूचना मिली कि खेलते समय निखिल को चोट लग गई है, जल्दी पीजीआइ पहुंच जाइए।

जिस समय कविता अपने परिजनों के साथ ट्रामा सेंटर में पहुंची तब तक निखिल की मौत हो चुकी थी। जो खून से पूरी तरह लथपथ था। उसके सिर के अलावा कई अन्य स्थानों पर भी चोट लगी थी। परिजनों को बताया गया कि लंच के समय निखिल और बाकी बच्चे ग्राउंड में खेल रहे थे। कुछ बच्चे फुटबाल के पोल पर चढ़ गया, जिससे वह अचानक गिर गया और उसकी चपेट में आने से यह हादसा हुआ है।

निखिल का मां कविता का आरोप है कि उसके बेटे को मारा गया है। स्कूल प्रबंधन भी मामले को दबाने पर लगा हुआ है। पता चलने पर गांव से भी काफी संख्या में ग्रामीण ट्रामा सेंटर में पहुंच गए थे। पिता के ओडिशा में तैनाती के कारण देर रात तक इस मामले में शिकायत नहीं दी गई थी। परिजनों ने उनके आने पर ही शिकायत देने की बात कहीं है।

यह उठ रहे सवाल

स्कूल प्रबंधन का कहना है कि पोल पर कई बच्चे चढ़ गए थे, जिस कारण वह गिर गया। सवाल यह है कि पोल गिरने के बाद केवल निखिल ही उसकी चपेट में आया, बाकी किसी बच्चे को चोट नहीं है। दूसरी लापरवाही यहां भी सामने आई है कि फुटबाल के पोल को जमीन में नहीं दबाया गया था। हालांकि अधिकतर स्थानों पर जमीन में नहीं दबाया जाता, लेकिन जहां पर इतनी संख्या में बच्चे खेलते हैं वहां पर सुरक्षा के इंतजाम तो होने चाहिए थे। पोल को केवल स्टैंड के सहारे ही क्यों छोड़ दिया गया। परिजनों ने भी पुलिस के सामने यही सवाल उठाए हैं।

--इस मामले में कोई लापरवाही नहीं बरती गई है। बच्चे खेल रहे थे, तभी यह पोल गिरा है। स्कूल प्रबंधन ने ही बच्चे को तुरंत पीजीआइ में लाकर भर्ती कराया। यह हादसा हुआ है। इसका स्कूल प्रबंधन को भी दुख है।

- धर्मवीर सिंह, प्रधानाचार्य मानव रचना ग्लोबल स्कूल

---बच्चे के पिता ड्यूटी पर है। परिजनों ने उनके आने के बाद ही शिकायत देने की बात कहीं है। अभी तक इस मामले में शिकायत नहीं मिली है। फिलहाल शव काे पोस्टमार्टम के लिए रखवा दिया है।

- दिलबाग सिंह, थाना प्रभारी शिवाजी कालोनी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस