संदीप रतन, गुरुग्राम

साइबर सिटी की सुपर पॉश सोसायटी और अपार्टमेंट सहित कई बड़ी कॉमर्शियल बिल्डिंग के पेयजल और सीवर के कनेक्शन काटे जा सकते हैं। इन लाइसेंसी कॉलोनियों के बिल्डरों पर पानी और सीवर के बिलों का 11 करोड़ रुपये बकाया है। इस वसूली के लिए गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी (जीएमडीए) ने बिल्डरों को नोटिस भेजने शुरू कर दिए।

200 से ज्यादा रेजिडेंशियल और कॉमर्शियल प्रॉपर्टी पर बिल बकाया है। कई बिल्डर पर लाखों रुपये का बकाया है और करीब पिछले एक साल से बिलों का भुगतान नहीं किया जा रहा है। ऐसे बिल्डरों के खिलाफ जीएमडीए अब सख्त रवैया अपनाने की तैयारी कर रहा है। अगर जीएमडीए की ओर से कार्रवाई की गई तो कई सुपर पॉश कॉलोनियों के बा¨शदों को परेशानी हो सकती है।

-

नामी बिल्डरों पर करोड़ों बकाया

जीएमडीए ने कई नामी बिल्डरों यूनिटेक, अंसल, डीएलएफ और मेफिल्ड सहित कई अन्य को बिलों की राशि का भुगतान करने के लिए नोटिस भेजे हैं। पॉश कॉलोनियों सुशांत लोक, साउथ सिटी- 1, साउथ सिटी- 2, मेफिल्ड गार्डन, सन सिटी सेक्टर 54, डीएलएफ सिटी फेज-2 और फेज-4, रिजवुड एस्टेट, हेमिल्टन कोर्ट, वेस्टेंड हाइट्स एस्टेट 3, पारस ट्वीन टॉवर सेक्टर 54, बेस्टेक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड सेक्टर 3 पालम विहार सहित काफी कॉलोनियों, ग्रुप हाउ¨सग सोसायटी पर बिल बकाया है। कॉमर्शियल बि¨ल्डग एमएस टॉवर, बीके ट्रैवल्स प्राइवेट लिमिटेड, ऑमेक्स प्लाजा और इसके साथ ही इंडस्ट्री मारुति उद्योग लिमिटेड और मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड पर भी बिल बकाया है। कॉमिर्शियल बि¨ल्डग में कई शॉ¨पग मॉल और ऑफिस के लिए उपयोग में लाई जा रही प्रॉपर्टी शामिल है।

-

डीएमआरसी और रेपिड मेट्रो भी डिफाल्टर

दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) के इफको चौक मेट्रो स्टेशन, सिकंदरपुर मेट्रो स्टेशन और एमजी रोड गुरुद्रोणाचार्य स्टेशन पर भी बिल बकाया है। उधर, रैपिड मेट्रो रेल गुरुग्राम साउथ लिमिटेड सेक्टर 42-43, सेक्टर 53-54, सेक्टर 52-53 और सेक्टर 55-56 द्वारा भी बिलों का भुगतान नहीं किया गया है।

-

- लाइसेंसी कॉलोनियों के बिल्डरों पर 11 करोड़ रुपये बकाया है। बिल राशि को वसूलने के लिए बिल्डरों को नोटिस भेजे जा रहे हैं। बिलों का भुगतान नहीं होने पर कॉलोनियों के पेयजल और सीवर के कनेक्शन काट दिए जाएंगे।

संदीप दहिया, एक्सईएन, जीएमडीए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप