जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: कृषि कानूनों के खिलाफ भारत बंद का जिले में कहीं भी असर नहीं दिखा। संयुक्त किसान मोर्चा के लोगों के सामने सदर बाजार के कुछ व्यवसायियों ने अपनी दुकानें बंद कीं लेकिन उनके आगे बढ़ते ही दुकानें खोल लीं। मोर्चा के लोगों ने भी दुकानें बंद करवाने के लिए जोर-जबरदस्ती नहीं की। सोनीपत इलाके में केएमपी-एक्सप्रेस-वे पर प्रदर्शनकारियों द्वारा जाम लगाए जाने का असर फरुखनगर इलाके में कुछ दिखा। लोग वहां जाकर जाम में न फंसें इसके लिए फरुखनगर के नजदीक से गुरुग्राम पुलिस ने ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया था। इस वजह से आसपास के इलाके में काफी देर तक ट्रैफिक का दबाव बना रहा। बंद को लेकर पूरे दिन गुरुग्राम पुलिस से जीआरपी थाना पुलिस हाई अलर्ट मोड पर रही।

भारत बंद को देखते हुए शुक्रवार सुबह छह बजे से ही सदर बाजार सहित बाजारों में नहीं बल्कि चौराहों से लेकर रेलवे स्टेशनों पर पुलिस अलर्ट हो गई थी। सदर बाजार में संयुक्त किसान मोर्चा के लोगों के पहुंचने से पहले काफी संख्या में पुलिसकर्मी पहुंच गए थे। लोगों ने हाथ जोड़कर व्यवसायियों से कृषि कानूनों के खिलाफ अपना समर्थन देने की अपील की। मोर्चा के अध्यक्ष व वरिष्ठ अधिवक्ता संतोख सिंह ने कहा कि सरकार की नीति व नीयत में खोट है। सरकार पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाना चाहती है।

नगर निगम पार्षद आरएस राठी ने कहा कि सरकार जानबूझकर बातचीत नहीं कर रही है। मोर्चा में शामिल पूर्व नगर निगम पार्षद गजे सिंह कबलाना, पूर्व सरपंच बीर सिंह, अनिल पंवार, ऊषा सरोहा, डा. सारिका वर्मा, रेखा यादव, सुमन हुड्डा, बलवान सिंह दहिया, नवनीत रोजखोड़ा, मुकेश डागर, देविका सिवाच, जसबीर ठाकरान, धान सिंह तंवर, वरिष्ठ अधिवक्ता अरुण शर्मा, सेवानिवृत्त कमांडेंट सत्यवीर सिंह, तेजराम यादव, ईश्वर सिंह पातली, विजय यादव आदि ने कहा कि जब तक मांगें पूरी नहीं होती हैं तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

कृषि कानूनों के समर्थन में प्रदर्शन

एक तरफ जहां कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त मोर्चा के लोगों ने भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शन किया वहीं कृषि कानूनों को लागू करने की मांग को लेकर हिदू सेना से संबंधित हिदू किसान सेना द्वारा शहर में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शनकारी राजीव चौक पर एकत्रित हुए। वहां से प्रदर्शन करते हुए इफको चौक के नजदीक पहुंचे। आगे शहर के विभिन्न इलाकों से होते ही राजीव चौक के नजदीक पहुंचे। इस दौरान कृषि कानूनों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरजीत यादव ने कहा कि कृषि कानूनों के लागू होने के बाद किसान अपनी फसल को मंडी से बाहर भी बेच सकते हैं। प्रदर्शन में राकेश यादव, अरुण कुमार, करण खटाना, अरुण ठाकुर, नवीन कालू बोकन, राजेश यादव सहित काफी संख्या में हिदू किसान सेना के कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। भारत बंद को देखते हुए हर स्तर पर सुरक्षा की व्यवस्था की गई थी। कहीं भी भारत बंद का असर नहीं दिखा। रोडवेज की बसें सामान्य रूप से चलीं। सोनीपत इलाके में जाम को देखते हुए फरुखनगर इलाके में कुछ देर के लिए केएमपी एक्सप्रेस-वे का ट्रैफिक डायवर्ट किया गया था।

-केके राव, पुलिस आयुक्त, गुरुग्राम भारत बंद को लेकर बाजार में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हुई। इस समय होली को लेकर बाजार में भरपूर उत्साह रहा। सभी दुकानें खुली रहीं।

भरत मदान कारोबार पर किसी प्रकार का प्रभाव नहीं पड़ा सभी दुकानें खुली रही। किसी के साथ दुकान बंद कराने को कोई दबाव नहीं बनाया गया। शांतिपूर्ण तरीके से बाजार में कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन रहा।

पारस कालरा कृषि कानून के विरोध में सदर बाजार में लोग पहुंचे थे पर किसी भी दुकान को जबरन बंद कराने जैसा कोई काम नहीं हुअ। वह लोग दुकानदारों से दुकान बंद कराने का शांतिपूर्ण ढंग से अपील कर रहे थे।

अमित माहेश्वरी भारत बंद को लेकर किसी प्रकार की परेशानी दुकानदारों को नहीं हुई। सभी दुकानें खुली रही किसी को प्रदर्शन के दौरान परेशान नहीं किया गया।

सत्यनारायण

Edited By: Jagran