जागरण संवाददाता, नया गुरुग्राम: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और स्वच्छ भारत अभियान के ब्रांड एंबेसडर सौरव गांगुली बुधवार को गुरुग्राम में थे। एक गैर-लाभार्थ संगठन साहस की और से शुरू किए गए सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोग्राम 'अलग करो, हर दिन तीन बिन' में बतौर मुख्य अतिथि आए गांगुली ने कहा कि मैं पिछले तीन साल से स्वच्छता अभियान से सक्रिय रूप से जुड़ा हूं। विभिन्न कार्यक्रमों में जाता हूं, खासकर जब भी स्कूल या कॉलेज जाता हूं तो स्वच्छता के प्रति विद्यार्थियों का उत्साह देखकर अचंभित हो जाता हूं। आज के बच्चे सफाई को लेकर सजग हैं। न केवल स्कूल, कालेजों में बल्कि घर और आसपास में सफाई को लेकर भी वो जागरूक हैं। बच्चों से बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

पूर्व कप्तान गांगुली ने कहा कि हर क्षेत्र में साझेदारी की भूमिका अति महत्वपूर्ण है। चाहे बात क्रिकेट की करें या स्वच्छता अभियान की एक अच्छी पार्टनरशिप हमें सफल बनाती है। इस अवसर पर सौरव ने कहा कि बच्चे ही स्वच्छता अभियान के असल ब्रांड एंबेसडर हैं। अपनी बेटी सना का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि वो जब भी कहीं प्लास्टिक या कागज का टुकड़ा देखती है, उसे डस्टबिन में डाल आती है। मजाकिया लहजे में सौरव ने कहा कि वैसे भी आजकल के बच्चे अभिभावक से ज्यादा शिक्षकों की बातें ही मानते हैं। ऐसे में यह शिक्षकों के लिए आसान है कि वो बच्चों को अभियान से जोड़ें।

कार्यक्रम में सौरव गांगुली और नरहरी बांगर के साथ स्वच्छ भारत अभियान के अतिरिक्त मिशन निदेशक नवीन कुमार अग्रवाल, साहस संस्था की सीईओ दिव्या तिवारी, टेट्रा पैक साउथ एशिया के कम्युनिकेशन निदेशक जयदीप गोखले, आशीष चतुर्वेदी, इस्तेयाक अमजद मौजूद रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021