जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : जिले में चल रहे लीगल लिटरेसी क्लबों को चलाने में जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा निजी विश्वविद्यालयों की लॉ फैकल्टी का सहयोग लेगा। इससे सभी क्लब पहले से और अधिक सक्रिय होंगे। इस कड़ी में बृहस्पतिवार को जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण की ओर से सेक्टर-51 के महिला थाने में क्लब के संचालन के लिए अंसल विश्वविद्यालय के साथ समझौता किया गया।

प्राधिकरण के सचिव व मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी नरेंद्र ¨सह ने बताया कि जिले में विश्वविद्यालयों के सहयोग से लीगल लिटरेसी क्लबों को सक्रिय करने के लिए नया प्रयोग किया जा रहा है। इसमें अंसल विश्वविद्यालय के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं। समझौते के अनुरूप अंसल विश्वविद्यालय की लॉ फैकल्टी के प्रोफेसर अथवा असिस्टेंट प्रोफेसर एवं पैरा लीगल वालंटियर के रूप में कानून के विद्यार्थी बुधवार और रविवार को दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक महिला थाने के क्लब में उपलब्ध रहेंगे। वे इस दौरान आने वाली पीड़ित महिलाओं की काउंसि¨लग और सलाह देने में सहयोग देंगे। इसके अलावा वे रिसर्च भी करेंगे कि आम लोगों को न्याय दिलवाने में जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के प्रयास कितने सार्थक हैं। पैनल पर रखे गए अधिवक्ता गरीब, शोषित, महिलाओं आदि को न्याय दिलवाने में कितने कारगर सिद्ध हो रहे हैं? समझौते के दौरान अंसल विश्वविद्यालय की लॉ फैक्लटी की एसोसिएट डीन डा. कनुप्रिया तथा डा. कोमल संधु के अलावा एसीपी उषा कुंडु भी उपस्थित थीं।

Posted By: Jagran