संदीप रतन, गुरुग्राम

शहर के 18 तालाब अब पूरे साल साफ पानी से लबालब रहेंगे। नगर निगम अधिकारियों के मुताबिक इन तालाबों का बरसाती नालों से कनेक्शन कर दिया गया है। इससे बारिश का पानी इन तालाबों में पहुंचेगा और तालाब पानी की कमी से नहीं सूखेंगे। तालाबों में पानी भरा रहने से भूजल स्तर में भी सुधार होने की उम्मीद है। इससे ग्राउंड वाटर रिचार्ज होगा और आसपास लगे बोरवेल में भी पानी की कमी नहीं रहेगी।

बता दें कि पुराने समय में शहर व निगम एरिया के गांवों में काफी तालाब होते थे, लेकिन अब ज्यादातर तालाबों पर कब्जा होने, पानी की कमी होने से तालाबों का अस्तित्व मिटने के कगार पर है। पिछले वर्ष नगर निगम ने तालाबों के संरक्षण की योजना बनाई थी, जिसके तहत बरसाती नालों के कनेक्शन तालाबों से जोड़ने, चारदीवारी करने व तालाबों के सुंदरीकरण जैसे कार्य भी कराए जा रहे हैं।

91 तालाबों में से सिर्फ 18 बचे

नगर निगम द्वारा कराए गए एक सर्वे के मुताबिक नगर निगम एरिया में कुल 91 तालाब थे। इसमें से 18 तालाबों में ही थोड़ा पानी बचा है। इन तालाबों को संरक्षित करने के लिए निगम की ओर से प्लान तैयार किया जा चुका है। चार तालाबों की चारदीवारी करने, पौधे लगाने, टाइलें आदि लगाने की योजना पिछले वर्ष बनी थी, जिसमें कादीपुर के तालाब पर कार्य पूरा किया जा चुका है। बसई और जहाजगढ़ के तालाब पर काम चल रहा है। जहाजगढ़ तालाब के आसपास उगी झाड़ियों को साफ किया गया है और फिलहाल तालाब की चारदीवारी की जा रही है। सुखराली और सिरहौल के तालाब पर भी कुछ कार्य करवाए गए हैं।

दूसरे चरण में इन 13 तालाबों को किया जाएगा संरक्षित

धनवापुर तालाब-1

धनवापुर तालाब-2

तिघरा

समसपुर

सीही

दरबारीपुर

बादशाहपुर

बेगमपुर खटौला

सराय अलावर्दी

गाढ़ौली कलां

मोहम्मदपुर झाड़सा

नाथुपुर

घाटा

- नगर निगम द्वारा तालाबों के संरक्षण की योजना बनाई गई है। तालाबों की चारदीवारी करने, पौधे लगाने, ट्रैक आदि बनाने के कार्य किए जा रहे हैं।

देवेंद्र भड़ाना, एक्सईएन, नगर निगम।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस