संवाद सहयोगी, सोहना (गुरुग्राम): भाजपा नेता सुखबीर खटाना की हत्या मामले में पुलिस की एसटीएफ ने जननायक जनता पार्टी (जजपा) के नेता रोहताश खटाना के छोटे भाई जोगिंदर खटाना को बुधवार रात गिरफ्तार कर लिया। उसे बृहस्पतिवार दोपहर अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए एक दिन के रिमांड पर लिया गया है। प्रारंभिक पूछताछ के मुताबिक उसने मुख्य आरोपित चमन को वारदात को अंजाम देने के लिए 27 लाख रुपये दिए थे। आगे भी कुछ पैसे देने की बात थी।

पैसे मिलने के बाद चमन ने हथियारों का इंतजाम किया था। मुख्य आरोपित चमन सहित दो आरोपित पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं। सुखबीर खटाना ने दो विवाह किए थे। चमन दूसरी पत्नी का भाई है। वह सुखबीर द्वारा बहन के साथ प्रेम विवाह करने से नाराज चल रहा था। अब जब जोगिंदर की गिरफ्तारी हुई है तो राजनीतिक रंजिश का कोण भी सामने आ रही है।

सुखबीर सोहना मार्केट कमेटी के उपाध्यक्ष रह चुके थे। इस बार जिला परिषद के चुनाव की तैयारी कर रहे थे। जीत के लिए ही वह भाजपा से जुड़े थे। एक सितंबर को दिनदहाड़े गुरुग्राम के गुरुद्वारा रोड स्थित रेमंड्स के शोरूम में घुसकर पांच युवकों ने ताबड़तोड़ 12 से अधिक गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थीं। पुलिस ने इस हत्याकांड में चमन को मुख्य आरोपित बनाते हुए अन्य के विरुद्ध एफआइआर दर्ज की थी।

इस बहुचर्चित हत्याकांड में एसटीएफ ने चमन को गिरफ्तार कर अपनी जांच शुरू की तो जोगिंदर से भी तार जुड़े मिले। इस पर एसटीएफ ने जोगिंदर खटाना को उसके फार्म हाउस से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के दौरान एसटीएफ को जोगिंदर के समर्थकों तथा स्वजन का विरोध भी झेलना पड़ा।

50 से अधिक पुलिसकर्मी होने के चलते विरोध अधिक नहीं हो सका और जोगिंदर को एसटीएफ अपने साथ गई। जोगिंदर के भाई रोहताश खटाना जजपा के टिकट पर सोहना विधानसभा क्षेत्र से विधायक का चुनाव लड़ चुके हैं। उन्हें जीत नहीं मिली थी।

उन्हें जिले में पार्टी का ताकतवर नेता माना जाता है। एसटीएफ में गुरुग्राम टीम के प्रभारी रामनिवास का कहना है कि मामले के अन्य आरोपित जल्द ही गिरफ्त में होंगे। जोगिंदर से पूछताछ में सामने आएगा कि उसने वारदात की साजिश क्यों रची।

Edited By: Aditya Raj

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट