गुरुग्राम, जागरण संवाददाता। सिख पंथ के संस्थापक गुरु नानक देव की जयंती (प्रकाश पर्व) को लेकर गुरुद्वारों में तैयारियां जोरों पर हैं। शहर के सभी गुरुद्वारों को बेहतर तरीके से सजाया गया है। गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा, गुरुग्राम के अध्यक्ष संतोक सिंह साहनी ने बताया कि 550वें प्रकाश पर्व को लेकर 550 अखंड पाठ रखे हुए हैं। इनकी अभी लड़ी चल रही है।

सोमवार को नगर कीर्तन

प्रकाश पर्व की पूर्व संध्या पर यानि सोमवार को नगर कीर्तन आयोजित होता है। नगर कीर्तन इस बार सेक्टर-38 स्थित मेदांता अस्पताल के सामने स्थित गुरुद्वारे से शुरू किया जाएगा और पूरे शहर का चक्कर लगाते हुए विभिन्न गुरुद्वारों से होते हुए वापस आएगा। प्रकाश पर्व में सुबह के समय गुरुबाणी होगी, कीर्तन होंगे। कीर्तन जत्था कीर्तन के जरिए संगत को निहाल करेंगे। इसके बाद लंगर आयोजित होगा।

यात्राओं से लोगों को किया था जागरूक

बता दें कि गुरु नानक देव सिख धर्म के प्रथम गुरु हैं। इन्होंने ही सिख धर्म की स्थापना की थी। समाज में व्याप्त कुरीतियों को दूर करने के लिए उन्होंने अपने पारिवारिक जीवन और सुख का ध्यान न करते हुए दूर-दूर तक यात्राएं की और लोगों के मन में बसी कुरीतियों को दूर करने की दिशा में काम किया। मंगलवार 12 नवंबर को इनका जन्मदिन है। हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को इनका जन्मदिन प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है, क्योंकि नानक देवजी ने कुरीतियों और बुराइयों को दूर कर लोगों के जीवन में नया प्रकाश भरने का कार्य किया।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप