गुरुग्राम, जेएनएन। Raishing Day of NSG: ब्लैक कैट के नाम मशहूर राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) कमांडो ने अपने हैरतअंगेज प्रदर्शन से केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सहित सभी लोगों को दांतों तले अंगुलियां दबाने को मजबूर कर दिया। जल, थल एवं आकाश यानी किसी भी जगह यदि आतंकवादी छिपे हों तो एनएसजी के कमांडो उन्हें कुछ ही देर में निपटाने में सक्षम हैं। कमांडो ने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन करके दिखाया।

प्रदर्शन से खुश दिखे गृहमंत्री अमित शाह

उनके हर प्रदर्शन पर गृहमंत्री अमित शाह काफी खुश दिखाई दिए। इसका इजहार उन्होंने पहले बार-बार तालियां बजाकर और बाद में अपने भाषण के माध्यम से किया। उन्होंने कहा कि देश की आंतरिक सुरक्षा को कोई खतरा नहीं। देश की सुरक्षा एनएसजी के कमांडो की निगरानी में है।

स्‍थापना दिवस के मौके पर कमांडो ने किया प्रदर्शन

मंगलवार को स्थापना दिवस के मौके पर मानेसर स्थित ट्रेनिंग सेंटर में एनएसजी के कमांडो ने अपनी अधिकतर क्षमताओं का प्रदर्शन किया। इमारत में छिपे आतंकवादियों को मार गिराने की क्षमता का प्रदर्शन किया गया। इसके लिए सुरक्षा बेड़े में शामिल नए 'रूक' वाहन का इस्तेमाल किया गया।

तीन तरफ से बुलेट-प्रूफ घेरा

कमांडो गाड़ी पर बैठकर सीधे इमारत में घुस गए। आतंकवादी सामने से गोलियां चलाते रहे लेकिन एक भी गोली गाड़ी के प्लेटफॉर्म पर खड़े कमांडो तक नहीं पहुंची। प्लेटफॉर्म के तीन तरफ बुलेट-प्रूफ घेरा है जिसे किसी भी हथियार की गोली नहीं भेद सकती।

बंधक बने स्‍कूली बच्‍चों को छुड़ाया

स्कूल बस में बच्चों को बंधक बनाए जाने पर किस तरह ऑपरेशन चलाया जाएगा, इसका भी प्रदर्शन किया गया। वीवीआइपी सुरक्षा को लेकर कमांडो कितने चौकस रहते हैं, उसका प्रदर्शन एक हमले के माध्यम से किया गया। नेताजी के भाषण देने के दौरान जैसे ही सामने से आतंकवादियों ने हमला किया, कमांडो ने चारों तरफ से घेरकर जवाबी हमला किया।

रुक वाहन को देखने उमड़ी भीड़

एनएसजी के सुरक्षा बेड़े में शामिल के-9 (डॉग्स) कमांडो ने भी हैरतअंगेज प्रदर्शन से सभी को अचंभित कर दिया। समारोह के संपन्न होने के बाद एनएसजी के सुरक्षा बेड़े में शामिल रूक वाहन को देखने के लिए लोग उमड़ पड़े। यही नहीं, एनएसजी के कमांडो भी इस वाहन के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए उत्सुक दिखाई दिए। रिमोट से संचालित वाहन के बारे में भी जानकारी हासिल करने के लिए लोग उत्सुक दिखाई दिए।

अमेरिका के बाद भारत में हैं 'रुक वाहन'

अमेरिका के बाद सिर्फ भारत के पास है 'रुक' वाहन एनएसजी को अमेरिका में निर्मित रूक वाहन को उपलब्ध कराने वाली कंपनी एसआरजी टेक्नो प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अजय गुप्ता का कहना है कि पूरी दुनिया में अमेरिका के बाद भारत में एनएसजी के पास यह वाहन है। इस वाहन की वजह से एनएसजी की क्षमता बढ़ी है। इसका बेहतर इस्तेमाल कश्मीर में हो सकेगा। वहां पर आतंकवादी इमारतों में छिप जाते हैं। इस वाहन में बैठकर आसानी से ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सकता है। के-9 कमांडो की वजह से भी एनएसजी की क्षमता काफी बढ़ी है।

दिल्‍ली वालों के लिए खुशखबरी, 17 अक्‍टूबर को रहेगी आधे दिन की छुट्टी

शिक्षकों की नियुक्ति रद होने पर दक्षिणी निगम में हंगामा, दिल्‍ली सरकार पर लगे आरोप 

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस