मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

गुरुग्राम [आदित्य राज]। दिल्ली से सटे हरियाणा गुरुग्राम जिले के एक गांव स्थित प्रसिद्ध धार्मिक संस्थान के संचालक बाबा की रंगीन मिजाजी का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। बुधवार को ग्रामीण प्रदर्शन करते हुए बिलासपुर थाने में पहुंचे। सभी ने 10 से अधिक अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद भी बाबा के खिलाफ मामला दर्ज न किए जाने पर नाराजगी जाहिर की। किसी वीडियो में बाबा महिला के साथ तो किसी वीडियो में बच्ची के साथ अश्लील करते हुए दिख रहा है। वीडियाे वायरल होने के बाद से बाबा आश्रम से फरार है। बिलासपुर थाना प्रभारी ने लोगों को आश्वासन दिया है कि मामले की छानबीन की जा रही है। जल्द ही पूरी सच्चाई सामने लाई जाएगी।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि बाबा की हरकत से इलाके को भारी शर्मिंदगी महसूस हो रही है। खासकर गांव का नाम बदनाम हुआ है, जिस धार्मिक संस्थान से बाबा जुड़ा है, उसके प्रति लाेगों में काफी श्रद्धा है। बाबा की हरकत से आस्था को चोट पहुंची है। जल्द से जल्द बाबा को गिरफ्तार कर सच्चाई सामने लाई जाए। प्रदर्शन में गांव के सरपंच के अलावा आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सुधीर यादव सहित काफी संख्या में ग्रामीण शामिल हुए।

बाबा की संपत्ति की जांच होनी चाहिए
आम आदमी पार्टी के नेता सुधीर यादव ने वायरल अश्लील वीडियो की सच्चाई सामने लाने के लिए राष्ट्रीय महिला आयोग, हरियाणा महिला आयोग, मुख्यमंत्री कार्यालय से लेकर गुरुग्राम पुलिस आयुक्त कार्यालय को लिखने के साथ ही बाबा की संपत्ति की जांच भी कराने की मांग की है। उनका कहना है कि बाबा ने इतनी संपत्ति कहां से और कैसे बनाई? यह भी सामने आना चाहिए। आश्रम के भीतर अस्पताल चल रहा है, लेकिन उसका कोई बोर्ड तक नहीं है। कहीं इसकी आड़ में इलाज के दौरान लोगों के शरीर का कोई अंग तो नहीं निकाला गया। यदि दो दिन के भीतर बाबा के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया, तो वह पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के लिए मजबूर होंगे।

बता दें कि सोमवार को साइबर क्राइम थाना पुलिस ने वायरल वीडियो को लेकर मामला दर्ज किया है। इसके माध्यम से वीडियो की सच्चाई पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। ग्रामीणों की मांग है कि बाबा के खिलाफ सीधे मामला दर्ज कर जांच शुरू की जाए।

नेताओं ने आश्रम से किया किनारा
दक्षिण हरियाणा के ही नहीं बल्कि पूरे हरियाणा के छोटे से लेकर दिग्गज नेता तक बाबा का आशीर्वाद लेने पहुंचते रहे हैं। खासकर चुनाव से पहले निश्चित रूप से आशीर्वाद लेने पहुंचते थे। अब सिर पर विधानसभा चुनाव है, लेकिन आश्रम की ओर जाने की बात दूर नेता बाबा का नाम लेने को तैयार नहीं। यही नहीं बाबा का नाम सामने आते ही आशीर्वाद लेने पहुंचने वाले नेता इधर-उधर झांकने के लिए मजबूर हैं।

वीडियो वायरल होने के बाद से बाबा फरार

यह भी सामने आया है कि एक के बाद एक वीडियो वायरल होने के बाद से तथाकथित बाबा अपने आश्रम से फरार हो गया है। वहीं, पुलिस बाबा के साथ वायरल वीडियो को लेकर भी चौकन्नी हो गई है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप