बादशाहपुर [महावीर यादव]। अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि पुलिस का डर भी उन्हें जरा सा भी नहीं है। भोंडसी थाना क्षेत्र के रिठौज गांव में जीवन अस्पताल में झगड़े की सूचना पर पहुंची पुलिस पर आरोपितों ने हमला बोल दिया। पीसीआर में तैनात तीन पुलिसकर्मियों को गालियां दी। पुलिस कर्मियों के साथ मारपीट कर पीसीआर को भी लाठी-डंडे और ईंट-पत्थर बरसा कर क्षतिग्रस्त कर दिया। भोंडसी पुलिस ने इस मामले में दो अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं। एक मामला अस्पताल संचालक की शिकायत पर अस्पताल कर्मियों के साथ मारपीट और अस्पताल में तोड़फोड़ का दर्ज किया गया है।

पुलिस पर जानलेवा हमले का मामला दर्ज

दूसरा मामला पीसीआर इंचार्ज की शिकायत पर पुलिस पर जानलेवा हमला करने का दर्ज किया गया है। रिठौज गांव के संदीप और मनीष को नामजद किया है। इसके अलावा अन्य लोगों के विरुद्ध भी मामला दर्ज किया है। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने टीमें गठित की हैं। अभी किसी भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

चार युवक कार में सवार होकर पहुंचे थे अस्पताल

डिफेंस कालोनी के रहने वाले डा. सुनील तंवर का रिठौज गांव में जीवन अस्पताल है। सुनील तंवर ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि उनके अस्पताल में 10-12 कर्मचारी कार्यरत हैं। कुछ कर्मचारी रात्रि में अस्पताल में रहते हैं। बिहार के गया जिला के गांव कोराय के रहने वाले मुन्ना और उत्तर प्रदेश बहराइच के गांव जैयतपुर के रामनरेश ड्यूटी पर थे। एक अन्य कर्मचारी भवानी अस्पताल में पहली मंजिल पर सो रहे थे। रात करीब 12 बजे चार युवक कार में सवार होकर अस्पताल पहुंचे। उनमें से एक युवक ने अस्पताल में आकर रामनरेश से दवा ली।

पैसे मांगने पर किया कैंची से हमला

रामनरेश ने दवा के पैसे मांगे तो उस युवक ने काउंटर पर रखी कैंची उठाकर रामनरेश को मारने का प्रयास किया। उसके बाद उस युवक ने कार में बैठे अपने अन्य साथियों को भी अंदर बुला लिया। चारों युवकों ने डंडों से अस्पताल के कर्मचारियों की पिटाई की। एक अन्य कर्मचारी ने अपने मोबाइल से पुलिस को फोन किया।

सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची

सूचना मिलते ही भोंडसी थाना क्षेत्र में तैनात पुलिस की पीसीआर मौके पर पहुंच गई। पुलिस पीसीआर में अनिल, राहुल और मोहित तैनात थे। पुलिसकर्मियों ने अस्पताल में हंगामा करने वालों से झगड़ा न करने के लिए कहा। इसी बात को लेकर आरोपितों ने पुलिस पर भी हमला बोल दिया। पुलिस की पीसीआर को लाठी-डंडों से बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया गया। पीसीआर में तैनात तीनों पुलिसकर्मियों को चोट लगी है। हेडकांस्टेबल अनिल को सिर में गहरी चोट लगी है। उनको मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हेड कांस्टेबल के सिर में लगी चोट 

भोंडसी थाना प्रभारी का कहना है कि हेड कांस्टेबल अनिल को सिर में कई टांके लगे हैं। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें गठित कर दी गई हैं। जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। अस्पताल संचालक डा. सुनील तंवर ने आरोप लगाया कि रिठौज गांव के मनीष, संदीप और उनके दो साथियों ने कर्मचारियों के साथ मारपीट कर अस्पताल में तोड़फोड़ की है।

Edited By: Prateek Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट