गुरुग्राम/पटौदी, जागरण संवाददाता। गुरुग्राम, पलवल और फरीदाबाद समेत समूचे हरियाणा में 30 नवंबर से पहले-पहले पंचायत चुनाव कराए जाने की संभावना है। इस बीच कई गबड़बड़ियां भी सामने आ रही हैं। गुरुग्राम जिले के पटौदी खंड के गांव गोरियावास में पिछड़ी जाति की ए श्रेणी का एक भी मतदाता न होने के बावजूद ग्राम को विभाग द्वारा भेजे गए गलत आंकड़ों के कारण पिछड़ी जाति की ए श्रेणी के लिए आरक्षित किया कर दिया गया है। इस त्रुटि को दूर न किया गया तो ग्राम में इस बार कोई सरपंच ही नहीं बन पाएगा।

भेजे गए डाटा में दी गई गलत जानकारी

ग्रामीणों का आरोप है कि उनके गांव में पिछड़ी जाति की ए श्रेणी का एक भी मतदाता नहीं है, परंतु पंचायत विभाग ने भेजे गए डाटा में दिखा दिया कि गांव में 43 प्रतिशत आबादी बीसीए की है। इस आधार पर गांव की पंचायत का सरपंच पद पिछड़ी जाति की ए श्रेणी के लिए आरक्षित कर दिया गया।

बड़ा सवाल, अब कौन लड़ेगा चुनाव

ऐसा करके न केवल उनके गांव से अन्याय किया गया है अपितु पिछड़े वर्ग की ए श्रेणी से भी अन्याय हुआ है। इस बड़ी गलती के कारण उनके गांव का सरपंच पद ही रिक्त रह जाएगा। जब उनके गांव में एक भी व्यक्ति इस श्रेणी का नहीं है तो कौन उसका चुनाव लड़ेगा?

सरकारी आंकड़ों ने किया निराश

उनका कथन है कि यह बड़ी हैरानी का विषय है कि जिस गांव में पिछड़े वर्ग की ए श्रेणी का एक भी व्यक्ति न हो, उसमें 43 प्रतिशत आबादी उस वर्ग की दिखा दी जाए। इससे तो उनका सरकारी आंकड़ों पर से ही विश्वास उठ गया है।

गांव को सरपंच कैसे मिलेगा?

उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा करके विभाग ने पिछड़े वर्ग की ए श्रेणी से भी अन्याय किया है। इस कारण एक अन्य पंचायत का सरपंच पद पिछड़े वर्ग की ए श्रेणी के लिए आरक्षित होने से वंचित रह गया है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया की विभिन्न कारणों से एक लंबे अरसे से पहले ही पंचायत चुनाव टलते आ रहे हैं तथा गांव का विकास बाधित हो रहा है। अब इस गलती के कारण फिर से गांव को सरपंच नहीं मिल पाएगा।

लोगों की मांग जल्द दूर हो गलती

योगेश, दुलीचंद, परमजीत तथा रामनिवास आदि ने मांग की है कि सरकार अविलंब इस त्रुटि को दूर करें ताकि उनके गांव को भी सरपंच मिल सके। साथ ही एक अन्य पंचायत का सरपंच पद पिछड़ी जाति के लिए आरक्षित हो सके।

संसोधन के लिए लिखा गया अधिकारियों को

उधर, इस पूरे प्रकरण में प्रदीप कुमार (एसडीएम, पटौदी) का कहना है कि हमारे पास जो आंकड़े चंडीगढ़ से आए थे उनके हिसाब से ड्रा निकाला गया था। संसोधन कराने के लिए भी उच्च अधिकारियों को पत्र लिखा गया है। जैसे निर्देश मिलेंगे उसी हिसाब से आगे संसोधन किया जाएगा।

Edited By: JP Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट