गुरुग्राम, जागरण संवाददाता: साइबर सिटी का पहला फुल क्लोवरलीफ फ्लाईओवर दिसंबर में तैयार हो जाएगा। तय समय के दौरान निर्माण कार्य पूरा हो जाए इसके लिए यू-गर्डर रखने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कुल 32 में से 30 यू-गर्डर रखे जा चुके हैं। इस फ्लाईओवर का निर्माण सदर्न पेरिफेरल रोड (एसपीआर), सेंट्रल पेरिफेरल रोड (सीपीआर) और दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेस-वे को आपस में जोड़ने के लिए किया जा रहा है। इसके चालू होने से किसी भी रोड पर पूरी रफ्तार के साथ वाहन निकल सकेंगे। खेड़कीदौला टोल प्लाजा के नजदीक एसपीआर दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेस-वे से मिलता है। नार्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) जिसे द्वारका एक्सप्रेस-वे कहा जाता है, वह एक्सप्रेस-वे से कुछ दूरी पर है। इसे एसपीआर से जोड़ने के लिए सीपीआर का निर्माण किया जा रहा है। फुल क्लोवरलीफ फ्लाईओवर का निर्माण पिछले एक साल से दिन-रात काम चल रहा है। एक्सप्रेस-वे के ऊपर फ्लाईओवर बनाया जा रहा है, इस वजह से काफी सावधानी बरतनी पड़ रही है। एनएचएआइ के परियोजना अधिकारी निर्माण जामभुलकर का कहना है कि दिसंबर के दौरान हर हाल में फ्लाईओवर का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए निर्माण कंपनी के कार्यों की प्रतिदिन समीक्षा की जा रही है। निर्माण के दौरान किसी भी प्रकार की कमी न रहे, इसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है। बता दें कि फुल क्लोवरलीफ फ्लाईओवर के साथ द्वारका एक्सप्रेस-वे के गुरुग्राम भाग का निर्माण पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसे ध्यान में रखकर एक्सप्रेस-वे का भी निर्माण काफी तेजी से किया जा रहा है। एक्सप्रेस-वे बनने से गुरुग्राम के साथ दिल्ली के लाखों लोगों को लाभ होगा।

Edited By: Aditya Raj

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट